गेहूँ में जड़ माहुँ के लक्षण एवं प्रबंधन!
गुरु ज्ञानAgrostar
गेहूँ में जड़ माहुँ के लक्षण एवं प्रबंधन!
👉यह कीट नवम्बर से फरवरी तक सक्रिय रहता है। बारिश से प्रभावित और देर से बोई गई फसल में नुकसान अधिक होता है। ये गेहूं की फसल के चूसने वाले कीट होते हैं। ये लगभग पारदर्शी कीट हैं, बहुत छोटे हैं और एक नरम शरीर है। पौधे के जोरदार चूसने के कारण पत्तियां मर जाती हैं या समय से पहले ही परिपक्व हो जाती हैं। यह प्रत्यक्ष खिला क्षति का कारण बनता है जो भूरा और फीका दिखाई देता है। 👉क्षतिग्रस्त पत्तियां अक्सर थोड़ी घुंघराले दिखाई देंगी या बुरी तरह धब्बेदार हो जाती हैं। ये माहुं बड़ी संख्या में पत्तों और अनाज के जड़ को विकसित नहीं होने देती हैं। इस कीट से नुकसान अक्सर कम-परीक्षण वजन अनाज में होता है। जड़ माहुं के मामले में युवा पौधों का पीलापन देखा जाता है। पीले भूरे रंग के माहुं आधार के पास या पौधे की जड़ों पर मौजूद हो सकते हैं। माहुं एक वायरल बीमारी भी है जिसका नाम जौ येलो ड्वार्फ वायरस (बीवाईडी) है। संक्रमित गेहूं के पौधों की उपज 50% तक कम हो सकती है। 👉नियंत्रण :- 1. देर से बुआई से बचें। 2. अधिक नाइट्रोजन उर्वरकों के उपयोग से बचें। 3. माहुं की स्थिति में फसलों की निगरानी रखें। 4. प्रारंभिक चरण में कीटनाशक के साथ क्षेत्र की सीमाओं का छिड़काव माहुं की आबादी को कम करने में मदद करेगा। 5. रासायनिक कीटनाशकों को केवल तभी लागू किया जाना चाहिए जब कीट आबादी आर्थिक सीमा स्तर को पार कर जाए। 6. माहुं के लिए आर्थिक नुकसान का स्थर प्रति पौधे की जड़ तथा तनों पर 5 माहुं होने चाहिए। 7. बीज को थायोमेथोक्साम 70% डब्ल्यूएस @ 70 मिली प्रति एकड़ के हिसाब से उपचारित करें।यदि खड़ी फसल में संक्रमण हो तो क्विनालफॉस 25% ई.सी.@ 400 मिली प्रति 200 लीटर पानी के साथ जड़ क्षेत्र में लगाएं। 👉स्त्रोत:- Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
11
2
अन्य लेख