गेंहूँ का औसत उत्पादन 20-25 क्विंटल!
गुरु ज्ञानAgrostar
गेंहूँ का औसत उत्पादन 20-25 क्विंटल!
🌾 धान के बाद गेहूं भारत की सबसे महत्तवपूर्ण अनाज की फसल है और भारत के उत्तर और उत्तरी पश्चिमी प्रदेशों के लाखों लोगों का मुख्य भोजन है।यह प्रोटीन, विटामिन और कार्बोहाइड्रेटस का समृद्ध स्त्रोत है और संतुलित भोजन प्रदान करता है। इसी बीच आज हम आप किसान भाइयों तक एग्रोस्टार द्वारा तैयार किया गया रिसर्च गेहूँ की वैराइटी के बारे में जानेंगे। जिसका नाम एग्रोस्टार 3221 गेहूँ है। 🌾इस गेंहूँ की प्रजाति की क्या खासियत है हम क्रम बद्ध जानेंगे :- रोग प्रतिरोध:-भूरे और पीले रतुआ के प्रति सहनशील बुवाई की गहराई:-5 सेंटीमीटर फसल अवधि:-125 - 130 दिन 🌾विशेष लक्षण:-सुनहरा, चमकदार, मध्यम मोटा और शुद्ध अनाज पौधे की ऊंचाई 85 से 90 सेमी। 🌾बुवाई का मौसम:- रबी 🌾बुवाई की दूरी:- 20 सेमी x 10 सेमी 🌾अतिरिक्त जानकारी:- उच्च उपज क्षमता, लम्बे समय तक रख -रखाव के लिए अच्छा अगेती और पछेती से बुवाई के लिए उपयुक्त। गिरने के प्रभाव के प्रति प्रतिरोधी किस्म। अधिक कल्ले जो फसल को अधिक उत्पादन के तरफ ले जाता है. प्रति बालियों में दानों की अधिक संख्या। 20-25 क्विंटल /एकड़ उत्पादन में सक्छम। 🌾स्त्रोत:-Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवा।
42
18
अन्य लेख