AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
गाय-भैंस के लिए ऐसे तैयार करें सस्ता हरा चारा!
पशुपालनAgrostar
गाय-भैंस के लिए ऐसे तैयार करें सस्ता हरा चारा!
👉 किसान अपनी आमदनी को बढ़ाने के लिए खेती-किसानी के साथ-साथ पशुपालन यानी की गाय-भैंस का पालन भी करते हैं. लेकिन उनके सामने कई तरह की परेशानी आती ही रहती है, जिसमें से सबसे बड़ी परेशानी गाय-भैंस के चारेको लेकर आती है. ऐसी जानकारी लेकर आए हैं, जिसकी मदद से वह पूरे सालभर सस्ता हरा चारा तैयार कर सकते हैं. 👉 पशुओं के लिए सस्ता हरा चारा सस्ता हरा चारा घर पर तैयार करने के लिए लोबिया, मक्का और ज्वार आदि फसलों की आवश्यकता पड़ेगी. बता दें कि लोबिया, मक्का और ज्वार का चारा पशुओं के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इसके अलावा लोबिया, मक्का और ज्वार फसल लगाने से किसान हरे चारे की कमी से छुटकारा पा सकते हैं. क्योंकि ये एक तेजी से बढ़ने वाले हरे चारे वाली फसलें है. इसके अलावा इन चारों के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि इनकी खेती करने से खेत की उर्वरक क्षमता को भी बढ़ावा मिलता है. 👉 लोबिया लोबिया एक वार्षिक जड़ी-बूटी वाली फलियां है, जिसकी खेती बीजों या चारे के लिए की जाती है. इसकी पत्तियाँ अंडाकार पत्तों वाली त्रिकोणीय होती हैं, जो 6-15 सेमी लंबी और 4-11 सेमी चौड़ी होती हैं. यह भी गाय-भैंस के लिए हरे चारे के काम करती है. 👉 मक्का पशुपालक हरे चारे हेतु मक्के की संकर मक्का गंगा-2, गंगा-7, विजय कम्पोजिट जे 1006 अफ्रीकन टॉल, प्रताप चारा-6 आदि जैसी प्रमुख उन्नत प्रजातियों की खेती कर सकते हैं. 👉 ज्वार गर्मी के मौसम में पशुओं के लिए हरे चारे की कमी को दूर करने के लिए ज्वार सबसे अच्छा विकल्प है. क्योंकि ज्वार का हरा चारा, कड़वी, और साइलेज तीनों ही रूपों में पशुओं के लिए उपयोगी माना जाता है. 👉 एजोला एजोला को भी गाय-भैंस के लिए हरे चारे के रूप खिलाया जाता है. एजोला एक तरह का जलीय फर्न है, जिसे दुधारू पशुओं को खिलाने से दूध की मात्रा में बढ़ोतरी होती है. बता दें कि एजोला पानी की सतह पर उगता है. 👉 घर पर ऐसे बनाये हरा चारा हरा चारा तैयार करने के लिए किसानों को ऊपर बताई गई फसलों के पतले तने को पकने से पहले ही काट लेना है. उसके बाद उसके तले के छोटे-छोटे टुकड़े कर लेना है. इसके बाद किसानों को इन कटे हुए हिस्सों को तब तक सुखाना है, जब तक इनमें करीब 15-18 प्रतिशत नमी न रह जाए. सूखने के बाद जब तना टूटने लगे तो किसानों को इसे अच्छी तरह से पैक करके एक सुरक्षित स्थान पर रख देना है.ध्यान रहे कि तैयार किया गया हरा चारे को बाहर की हवा न लग पाएं. किसानों को पशुओं का चारा बनाने के लिए मोटे तने का चयन नहीं करना है. इसके लिए उन्हें हमेशा पतले तने का ही चयन करना चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि पतले तने जल्दी सुख जाते हैं. 👉 स्त्रोत:-AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट 💬करके ज़रूर बताएं और लाइक 👍एवं शेयर करें धन्यवाद।
28
1
अन्य लेख