एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
गन्ने में अगेती तना बेधक की रोकथाम!
👉किसान भाइयों गन्ने की फसल में अगेती तना बेधक या अंकुर बेधक का प्रकोप उपोष्ण जलवायु वाले क्षेत्रों में अंकुरण से चार माह तक रहता है। इसके लार्वा (इल्ली) वृद्धि बिन्दुओं को बेधकर मृत केन्द्र (डेड हार्ट) बनाते है जिससे पौधे कके बीच का कल्ला सूख जाता है और खींचने पर आसानी से बहार निकल आता है जिसमें से सिरके जैसी बदबू आती है। नियंत्रण के उपाय:- 👉अंकुर बेधक के प्रकोप से ग्रस्त गन्नों को निकाल कर नष्ट कर देना चाहिए। 👉क्लोरोपायरीफॉस 20% इसी @ 500-600 मिली० प्रति एकड़ 200-400 लीटर पानी में घोलकर फसल पर छिड़काव करें। 👉क्लोरेनट्रेनीलिप्रोल 18.5% एससी @ 150 मिली० प्रति एकड़ 200 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें। 👉क्लोरेनट्रेनीलिप्रोल 00.40% जीआर @ 7 किग्रा० प्रति एकड़ की दर से जमीन में भुरकाव करें। स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, यदि आपको आज के सुझाव में दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
11
3