कृषि वार्तादैनिक भास्कर
खेतों में फसल अवशेष न जलाएं इससे वर्मी कंपोस्ट बनाएं
बिहार के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि किसान खेतों में फसल के अवशेष जलाएं नहीं, इससे वर्मी कंपोस्ट बनाएं। खेतों में अवशेष जलाने से वायु प्रदूषण बढ़ता है, वहीं खेतों की उर्वरा क्षमता घटती है। उन्होंने कहा कि खेतों में फसल अवशेष जलाने से मिट्‌टी का तापमान बढ़ जाता है, जिससे मिट्‌टी में उपलब्ध जैविक कार्बन जल कर नष्ट हो जाता है। इससे मिट्‌टी की उर्वरा शक्ति कम हो जाती है। मिट्‌टी का तापमान बढ़ने से सूक्ष्म जीवाणु, केंचुआ आदि मर जाते हैं।
फसल अवशेष जलाने से जमीन के लिए जरूरी पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं, मिट्‌टी में नाइट्रोजन की कमी हो जाती है, जिसके कारण उत्पादन घटता है। साथ ही वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ती है, जिसके कारण वातावरण प्रदूषित होता है और जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है। स्रोत – दैनिक भास्कर, 5 जून 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
13
0
अन्य लेख