AgroStar
खरीफ अभियान में 64 हजार बाटल खपेगा नैनो यूरिया!
समाचारAgrostar
खरीफ अभियान में 64 हजार बाटल खपेगा नैनो यूरिया!
👉नमस्कार किसान भाइयों जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर (भदोही) : खेती किसानी में लागत कम व उत्पादन बढ़ाने में लगी सरकार की ओर से अब नैनो यूरिया के अधिक प्रयोग पर जोर दिया जा रहा है। खरीफ अभियान की प्रमुख धान सहित अन्य फसल में उपयोग के लिए 64 हजार बाटल नैनो यूरिया खपाई जाएगी। जिले में वितरण का लक्ष्य तय कर दिया गया है। विभाग की ओर से मिलने वाले नैनो यूरिया को समितियों पर भेजने के साथ किसानों को इसके उपयोग के लिए प्रेरित किया जाएगा। नैनो की बड़ी खेप आने से दानेदार स्वत: यूरिया का स्टाक कम हो जाएगा। 👉रासायनिक उर्वरकों के लगातार हो रहे अंधाधुन प्रयोग के चलते जहां मिट्टी की उर्वरा शक्ति कमजोर हो रही है वहीं उत्पादन व गुणवत्ता में कमी आ रही है। उत्पादन बढ़ाने व उत्पाद की गुणवत्ता कायम करने के लिए समितियों से अब नैनो (लिक्विड) यूरिया बेचने की तैयारी की गई है। सहायक निबंधक सहकारी समितियां राघवेंद्र शुक्ला ने बताया कि जिले में 500 मिलीलीटर (आधा लीटर) की 64 हजार बाटल नैनो यूरिया वितरण का लक्ष्य तय किया गया है। पूर्व में 15 हजार में से आठ हजार बाटल यूरिया पहले का उपलब्ध है। जिसे समितियों पर भेजा गया है। शेष जल्द आ जाएगी और उसे समितियों पर भेजकर बिक्री कराई जाएगी। 👉यूरिया से सस्ता, असर उससे अच्छा:- 500 मिलीलीटर की एक बाटल नैनो यूरिया 240 रुपये में है। इससे डेढ़ एकड़ फसल में छिड़काव किया जा सकता है। जबकि एक बीघे के लिए एक बोरी यूरिया पर 300 रुपये से अधिक खर्च करना पड़ता है। नैनो यूरिया से जहां उत्पाद की गुणवत्ता कायम होगी। यह किसानों के लिए किफायती एवं इसके प्रयोग से भूमि एवं पर्यावरण दोनों ही सुरक्षित रहते हैं। इसके अलावा किसानों को यूरिया खाद की बोरी के भंडारण व परिवहन का भी झंझट नहीं होगा। नैनो यूरिया की बोतल को थैले में ले जा सकते हैं। इसके साथ ही नैनो यूरिया भूमिगत जल की गुणवत्ता सुधारने, मिट्टी में यूरिया के अधिक प्रयोग को कम करने, फसल को कीट व बीमारियों से बचाने के साथ ही उत्पाद की पोषणता एवं गुणवत्ता में बढ़ोतरी करने में सहायक है। स्रोत:-AgroStar 👉किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
16
5
अन्य लेख