मजेदारNews 18
क्यों महंगी हैं "सिल्वर नीडल" चाय?
☕तमिलनाडु का नीलगिरी जिला चाय के उत्पादन के लिए फेमस है, और यहां होने वाली सिल्वर नीडल व्हाइट टी पावडर की कीमत सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे! 🔹जी हां, नीलगिरी जिले के कुनूर स्थित एक प्राइवेट फैक्ट्री ने अंतरराष्ट्रीय चाय नीलामी में एक किलो सिल्वर नीडल व्हाइट टी पावडर के लिए 16,400 रुपये की बोली हासिल की है. एक किलो चाय की कीमत 16,400 रुपये. 🔹बता दें कि कुनूर टी ट्रेड एसोशिएसन (CTTA) ने हाल ही में एक ऑनलाइन अंतरराष्ट्रीय चाय नीलामी कार्यक्रम रखा था. इसमें चाय उत्पादन करने वाली विभिन्न फैक्ट्रियों ने हिस्सा लिया.इस कार्यक्रम में सफेद चाय की बोली लगाई गई. इस चाय को कुनूर बिल्लीमलाई टी एस्टेट का सिल्वर नीडल भी कहते हैं. नीलामी में इस चाय को प्रति किलोग्राम 16,400 रुपये का भाव मिला, जोकि दक्षिण भारत में हुई चाय नीलामी का रिकॉर्ड प्राइस है. 🔹सफेद चाय के लिए चाय की पत्तियों को सूर्य के उगने से पहले ही तोड़ा जाता है. 10 एकड़ के खेत में तकरीबन 5 किलोग्राम ही सफेद चाय की पत्तियां उपलब्ध होती हैं और इन पत्तियों को लगातार एक तापमान पर प्रोसेस किया जाता है, तब जाकर 1 किलोग्राम सिल्वर नीडल या सफेद चाय प्राप्त होती है. यही कारण है कि ये चाय स्पेशल बन जाती है और बाजार में इसकी कीमत ज्यादा मिलती है. नीलामी में सिर्फ 4 किलोग्राम सफेद चाय शामिल की गई थी, जिसे निर्यात के लिए रिजर्व कर लिया गया. 🔹नीलगिरी जिले में चाय उत्पादन में 60 हजार से ज्यादा किसान जुड़े हुए हैं. जिले के किसान चाय उत्पादन करने के बाद उसे नीलामी के लिए कुनूर स्थित टी ऑक्शन सेंटर लेकर जाते हैं. स्त्रो:- News18 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
3
0
संबंधित लेख