कृषि वार्ताTV9
किसानो के लिए डिजिटल प्लेटफार्म - एग्रीस्टैक !
🔷प्रिय किसान भाइयो सरकार ने एक ऐसा मंच तैयार किया है जिसमे छोटे बड़े हर किसान एक साथ आ सकते है जहा एक समय पर कृषि और बाजार दोनों की जानकारी मिलेगी, इस प्लेटफॉर्म के जरिए किसान अपनी फसल भी बेच सकेंगे! 👉हर कृषि भूमि को माना जाएगा एक यूनिट- मंत्रालय के डिजिटल एग्रीकल्चर प्रमुख संयुक्त सचिव विवेक अग्रवाल के अनुसार, इस प्रोजेक्ट में हर कृषि भूमि को एक यूनिट की तरह माना जाएगा. इन सभी यूनिटों के डाटा प्वाइंट को एग्रीस्टैक से जोड़ा जाएगा. 👉कई कंपनियों के साथ करार- इस प्लेटफॉर्म को बनाने के लिए कृषि मंत्रालय ने पिछले अप्रैल के महीने से लेकर जून तक कई प्रतिष्ठित टेक कंपनियों अमेजन वेब सर्विस, पतंजलि ऑर्गेनिक रिसर्च संस्थान, स्टार एग्रीबाजार टेक्नोलॉजी लिमिटेड, ईएसआरआई, इंडिया टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड, के साथ करार किया है. 👉दूर होगी किसानों की यह समस्या- अभी कोई ऐसी व्यवस्था नहीं है, जिससे किसानों को फसल उगाने से पहले इस बात का मालूम चल पाए कि बाजार में उनके फसल की मांग कितनी होगी. अच्छी बारिश होने पर बंपर पैदावार की उम्मीद होती है. पर ऐसे में कई बार होलसेल दामों में बड़ी गिरावट का सामना किसानों को करना पड़ता है. इसलिए किसान हमेशा अपनी फसल को लेकर चिंतित रहते हैं. इस स्थिति में बदलाव लाने के लिए सरकार ये प्रोजेक्ट शुरू कर रही है. 👉खेती से जुड़ी हर जानकारी देगी सरकार- एग्रीस्टैक में सभी किसानों को एक यूनिट आईडी दी जाएगी, जो उनके आधार नंबर से जुड़ी होगी. इस आईडी में किसानों के जमीन जानकारी मौजूद होगी. जमीन की उपज और उगाई जाने वाली फसलों की जानकारी भी इसमें शामिल होगी. केंद्र सरकार की ओर से मिलने वाले सभी लाभ किसानों को मिलेंगे. 👉इस प्रोजेक्ट से बढ़ेगा निवेश- कृषि आधारित स्टार्टअप कंपनी ओमनीवोर के सह संस्थापक मॉर्क कॉन ने मीडिया संस्थान से बातचीत में बताया, “इस प्रोजे्क्ट से कृषि क्षेत्र में छोटे उद्यमों को उभरने का मौका मिलेगा. उन्होंने कहा कि अभी किसानों का जनधन खाता, आधार नंबर और मोबाइल नंबर उपलब्ध है. अगर एग्रीस्टैक के तहत फसल और उनकी जमीन से जुड़ी जानकारियां उपलब्ध होंगी तो यह बड़ी सफलता होगी.” स्त्रोत :- TV9 👉प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। इस वीडियो में दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍🏻 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
4
1
अन्य लेख