AgroStar
किसानों को मिलेंगे सोलर प्लांट सुविधा के साथ ऋण माफ़ी भी !
कृषि वार्ताkrishi jagran
किसानों को मिलेंगे सोलर प्लांट सुविधा के साथ ऋण माफ़ी भी !
👉🏻किसानों की मदद के लिए कई तरह की योजना चलाई जा रही है. इनमें एक नाम कुसुम योजना का भी शामिल है. इसी कड़ी में राजस्थान सरकार द्वारा अपने राज्य के किसानों को एक बड़ी खुशखबरी दी गई है. दरअसल, राज्य के किसानों को कुसुम योजना के तहत 2 मेगावाट सोलर प्लांट लगाने के लिए ऋण मिल सकेगा! बंजर और बेकार भूमि का करें उपयोग - 👉🏻जी हां, कुसुम योजना के तहत सोलर प्लांट लगाने के लिए बैंक फाइनेंसिंग के लिए संघर्ष कर रहे किसानों को बड़ी राहत मिल सकती है. दरअसल, अतिरिक्त मुख्य सचिव सुबोध अग्रवाल ने कहा कि चूंकि बिजली खरीद समझौते के तहत डिस्कॉम द्वारा बिजली संयंत्र खरीदा जाता है, इसलिए किसानों को 25 साल तक नियमित भुगतान मिलेगा! कुसुम योजना के तहत क्या मिलेगी सुविधा - 👉🏻कुसुम योजना के अनुसार, किसान बंजर और अर्ध बंजर भूमि में सबस्टेशन के 5 किमी के दायरे में 0.5 से 2 मेगावाट क्षमता वाली परियोजनाएं स्थापित कर सकते हैं. राजस्थान बिजली नियामक ने 3.14 रुपये प्रति यूनिट की दर से मंजूरी दी है, जो डिस्कॉम किसानों को भुगतान करेगी! 👉🏻इस योजना के तहत, निजी डेवलपर्स को उन किसानों के साथ कॉन्ट्रैक्ट फाइनल करने की अनुमति है जिनके पास ऐसी जमीन है, लेकिन निवेश करने के लिए पूंजी नहीं है. किसान डेवलपर्स से जमीन के लिए वार्षिक लीज मनी प्राप्त करने का हकदार है. लेकिन निजी डेवलपर्स ने कहा कि 3.14 रुपये प्रति यूनिट की दर व्यवहार्य नहीं है, क्योंकि ये छोटी परियोजनाएं हैं और पैमाने की अर्थव्यवस्था का आराम प्रदान नहीं करती हैं! राजस्थान सरकार का किसानों के लिए एक और बड़ा ऐलान - 👉🏻वहीं उसके अलावा, राजस्थान के मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीयकृत बैंकों के फसल ऋण माफी के लिए ऐलान किया है. दरअसल, राज्य सराकर ने एकमुश्त कर्ज माफी योजना लाकर गरीब किसानों को राहत देने के लिए बैंकों को एक प्रस्ताव भेजा गया है. उन्होंने आगे कहा कि कहा कि इस प्रस्ताव को लागू कर राष्ट्रीयकृत बैंक किसानों की कर्जमाफी में राज्य सरकार को जरूरी सहयोग दें! किसानों को मिल सकती है राहत - 👉🏻मुख्यमंत्री ने कहा कि हाल ही में भारतीय स्टेट बैंक (SBI) द्वारा शुरू की गई एकमुश्त ऋण माफी योजना में, गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (Non-performing assets) के रूप में वर्गीकृत कृषि ऋणों को माफ कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि बैंक द्वारा 90% ऋण माफ कर दिया गया है जबकि शेष 10% का भुगतान किसान द्वारा किया गया है. और अन्य बैंकों से भी इसी तरह की तर्ज पर गरीब किसानों को राहत प्रदान करने के लिए कहा है! स्त्रोत:- Krishi Jagran 👉🏻किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
70
10
अन्य लेख