किसानों को नहीं झेलनी पड़ेगी!
समाचारAgrostar
किसानों को नहीं झेलनी पड़ेगी!
👉किसान अक्सर खाद की तंगी होने के चलते परेशान रहते हैं, इसलिए वो एडवांस में ही इसको खरीद कर रख लेते हैं. नतीजतन, दूसरे किसानों को इसका नुकसान झेलना पड़ता है और इसलिए अब किसानों को उनकी फसलों के लिए मन मुताबिक खाद उपलब्ध नहीं करवाई जाएगी. 👉किसानों के लिए सरकार की तरफ से रबी की फसल के लिए जैसे :- आलू, गेहूं और सरसों के लिए एक नियमित मात्रा में खाद मिलेगी, जिससे आगे चलकर इनको इसकी किल्लत नहीं झेलनी पड़ेगी. यदि कोई खाद की ब्लैक में बिक्री करता है तो उस पर कड़ी करवाई की जाएगी. 👉गेहूं, सरसों व आलू के लिए मिलेगी कितनी खाद :- कृषि विभाग ने गेहूं, सरसों व आलू के लिए खाद की उपयोग मात्रा तय कर दी है, जो प्रति हेक्टेयर के हिसाब से किसानों को उपलब्ध करवाई जाएगी. खाद की ज़्यादा मात्रा खेत में डालने से मिट्टी की उर्वरा शक्ति कम हो जाती है व आगे चलकर फसलें भी कम पैदावार देने लगती हैं जिसके मद्देनज़र यह फैसला लिया गया है. 👉कितनी मिलेगी डीएपी :- बताया जा रहा है कि सरसों के लिए 130 किलोग्राम डीएपी प्रति हेक्टेयर तय की गई है. आलू के लिए 326 किलोग्राम डीएपी प्रति हेक्टेयर तय की गई है. वहीं किसानों को गेहूं के लिए प्रति हेक्टेयर 130 किलोग्राम डीएपी मिलेगी 👉किसानों को मिलेगी इतनी खाद:- सरसों के लिए यूरिया कृषि विभाग ने किसानों के लिए 210 किलो यूरिया, 130 किलो डीएपी, 25 किलो जिंक, 40 किलो सल्फर और बोरोन नहीं मिलेगा. इसके अलावा आलू के लिए 307 किलो यूरिया, 326 किलो डीएपी, 25 किलो सल्फर, 30 किलो जिंक और 12 किलो बोरोन उपलब्ध करवाया जाएगा. जबकि गेहूं के लिए 275 किलो यूरिया, 130 किलो डीएपी, 20 किलो सल्फर, 35 किलो जिक मिलेगा. 👉स्त्रोत:-Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
12
3
अन्य लेख