किसानों को कितने बीज निःशुल्क दिए जाएँगे
योजना और सब्सिडीAgrostar
किसानों को कितने बीज निःशुल्क दिए जाएँगे
👉वर्ष 2023 को अंतराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष घोषित किया गया है। इसके लिए जहां देश में सरकार द्वारा मोटे अनाज का उत्पादन एवं उत्पादकता बढ़ाने के लिए कई पहल शुरू की गई है वहीं मोटे अनाज से तैयार उत्पादों को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। अंतराष्ट्रीय मीलट्स वर्ष 2023 को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने जायद में मडुआ (रागी) के क्षेत्राच्छादन को बढ़ाने के लिए बीज मिनीकीट निःशुल्क वितरण करने का फैसला लिया है। 👉उत्तर प्रदेश में कृषि विभाग द्वारा जायद वर्ष 2023 में उड़द, मूंग एवं रागी के प्रमाणित उन्नत किस्मों के बीज मिनी किट किसानों को निः शुल्क वितरित किए जाएँगे। जिससे प्रदेश के 1.5 लाख किसानों को लाभ मिलेगा। वित्त वर्ष 2022-23 में जायद में उड़द, मूंग एवं रागी के निःशुल्क बीज वितरण के लिए सरकार 7.4365 करोड़ रुपए खर्च करेगी। किसानों को कितने बीज निःशुल्क दिए जाएँगे 👉उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री श्री सूर्य प्रताप शाही ने जानकारी देते हुए बताया कि जायद 2023 में किसानों को उड़द एवं मूंग के 4-4 किलोग्राम बीज प्रति मिनीकिट तथा मडुआ (रागी) के 3-3 किलोग्राम बीज प्रति मिनीकिट किसानों को राज्य सरकार द्वारा निःशुल्क वितरित किए जाएँगे। प्रदेश में कृषि विभाग के निर्धारित राजकीय कृषि बीज भंडारों से यह बीज किसानों को फ्री में दिए जाएँगे। 👉कृषि मंत्री ने बताया कि सतत बढ़ती जनसंख्या के पोषण हेतु दलहनी फसलों एवं मोटे अनाज (श्री अन्न) के उत्पादन/ उत्पादकता में निरंतर बढ़ाए जाने की आवश्यकता है। पोषण की दृष्टि से दलहनी फसलों में उड़द एवं मूंग से प्रोटीन तथा मोटे अनाजों में मडुआ (रागी-फिंगर मिलेट) से पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम, फ़ाइबर, मिनरल प्राप्त होता है। प्रदेश में जायद में लगभग 45 हजार हेक्टेयर में उड़द और लगभग 47 हजार हेक्टेयर में मूँग का आच्छादन है तथा रागी का आच्छादन नगण्य है। 👉स्रोत :- Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
21
9
अन्य लेख