कृषि वार्ताTV9
किसानों की खेत का होगा रजिस्ट्रेशन!
📄हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अधिकारियों को मेरी फसल मेरा ब्यौरा (Meri Fasal Mera Byora) पोर्टल पर प्राथमिकता आधार पर राज्य की शत प्रतिशत जमीन का रजिस्ट्रेशन करवाने के आदेश दिए हैं! 👉जिला उपायुक्त यह भी सुनिश्चित करें कि प्रत्येक एकड़ भूमि की मैपिंग (Land mapping) करवाई जाए और इस कार्य में लगे कर्मचारियों का प्रशिक्षण जल्द से जल्द हो. उन्होंने जीरो एरर एप्रोच के साथ खेतों का भौतिक सत्यापन भी करने के निर्देश दिए हैं! जमीन की मैपिंग कार्य में लगाए गए 6205 कर्मचारी- 👉कृषि विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुमिता मिश्रा ने कहा कि जमीन की मैपिंग के काम के लिए विभिन्न विभागों के 6205 अधिकारियों व कर्मचारियों को लगाया गया है. कृषि , पंचायत, बागवानी, सिंचाई और राज्य कृषि विपणन बोर्ड सहित विभिन्न विभागों के कर्मचारी प्रदेश की एक-एक एकड़ भूमि की मैपिंग करेंगे, ताकि राज्य की शत प्रतिशत भूमि के पंजीकरण लक्ष्य को हासिल किया जा सके! डीएसआर तकनीक से बुवाई फायदेमंद- 👉मिश्रा ने कहा कि किसानों ने फसल विविधीकरण के तहत दलहन, तिलहन और चारे की बुवाई पर अधिक ध्यान केंद्रित किया है. जल संरक्षण के लिए एक नई योजना, डीएसआर शुरू की गई है, जिसके तहत किसान बढ़-चढ़कर बुवाई कर रहे हैं. यह धान की खेती करने की एक कम खर्चीली और कम पानी वाली विधि है! 87,000 एकड़ पर वैकल्पिक फसल- 👉अधिकारियों को बताया कि मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत इस वर्ष 2 लाख एकड़ जमीन को धान मुक्त करने का लक्ष्य तय किया गया है. अब तक इसमें से लगभग 87,000 एकड़ भूमि पर धान के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई की गई है. ऐसे किसानों को 7000 रुपये प्रति एकड़ की दर से प्रोत्साहन रकम मिलेगी! बाजरा की जगह दूसरी फसल लगाने पर मिलेंगे 4000 रुपये- 👉हरियाणा में किसानों को बाजरा के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई के लिए एक विशेष प्रोत्साहन योजना शुरू की गई है. इसके तहत अन्य फसलें उगाने के लिए 4000 रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन रकम मिलेगी! स्त्रोत:- TV9 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
9
1
अन्य लेख