AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
कम लागत में शुरू करें यह बेहतरीन बिजनेस!
कृषि वार्ताAgroStar
कम लागत में शुरू करें यह बेहतरीन बिजनेस!
👉कम लागत में शुरू करें गोबर का यह बेहतरीन बिजनेस, हर महीने होगी मोटी कमाई! अगर आपके पास गाय-भैंस हैं, तो आप इससे अच्छी मोटी कमाई कर सकते हैं. गाय-भैंस के दूध ही नहीं बल्कि इनके गोबर की भी बाजार में काफी अधिक मांग होती है. आप चाहे तो गाय-भैंस के गोबर की टाइल्स बनाने भी उसे बाजार में बेच सकते हैं. 👉गांव में आज भी भीषण गर्मी से बचने के लिए घरों में गोबर की टाइल्स लगवाते हैं. बता दें कि इन टाइल्स से कमरे का तापमान 6 से 8 डिग्री सेल्सियस तक कम हो जाती है. गोबर से तैयार की गई टाइल्स दिखने में बेहद खूबसूरत होती हैं. 👉गोबर की टाइल्स बनाने की विधि:- गोबर की टाइल्स के बिजनेस से अच्छा लाभ प्राप्त करने के लिए आपको गोबर की टाइल्स बनाने की विधि के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी होना बेहद जरूरी है. ताकि आपकी लागत कम हो सके. इसके लिए आप भारतीय नस्ल की गायों के गोबर का उपयोग कर सकते हैं. सबसे पहले गोबर को करीब 2 दिन तक सुखाया जाता है. इसके बाद मशीन के जरिए चूरा बनाया जाता है. जब गोबर का चूरा तैयार हो जाए, तो इसमें खास किस्म की जड़ी बूटियां मिलाई जाती हैं. इसके लिए चंदन पाउडर, कमल के पत्ते, नीलगिरी के पत्ते का उपयोग कर सकते हैं, क्योंकि यह शुद्धता और ठंडक प्रदान करती हैं. इसी तरह जो जड़ी बूटियां ठंडक समेत अन्य राहत देती हैं, उन्हें भी आप इसमें मिला सकते हैं. इनका पेस्ट तैयार किया जाता है, जिसको अलग-अलग सांचे में रखकर उनका ब्रिक्स तैयार किया जाता है. इसके बाद ऑर्डर के हिसाब से टाइल्स बनाई जाती हैं. 👉गोबर की टाइल्स के बिजनेस की लागत:- गोबर की टाइल्स के बिजनेस को सही तरीके से चलाने के लिए आपको एक कारखाना किराए पर लेना होगा. अगर आपके पास खुद की जगह है, तो बहुत अच्छा रहेगा, क्योंकि इससे लागत की बचत होगी. यहां आप गोबर को अच्छा तरह सुखा सकते हैं. इसके अलावा गोबर का चूरा बनाने की मशीन की व्यवस्था करनी होगी. कुल मिलाकर इस बिजनेस को शुरू करने में 50 हजार से 1 लाख रुपए तक की लागत लग जाएगी. 👉गोबर से तैयार उत्पाद:- मूर्तियां कलाकृतियां चप्पल मोबाइल कवर चाबी रिंग आदि तैयार कर सकते हैं 👉बिजनेस के लिए सरकार की योजना करेगी मदद:- इस बिजनेस की सबसे अच्छी खासियत यह है कि इसे शुरू करने के लिए सरकार की योजना भी मदद करेगी. सरकार की यह योजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई राष्ट्रीय कामधेनु योजना है, जो देसी गाय और बैलों की नस्ल के बिजनेस पर आर्थिक रूप से मदद करती है. 👉स्त्रोत:- AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट 💬करके ज़रूर बताएं और लाइक 👍एवं शेयर करें धन्यवाद।
33
0
अन्य लेख