बाजार समाचारIndia Times
कपास बाजार समाचार!
👉🏻प्रिय किसान मित्रों , आज के बाजार समाचार में हम बात करने वाले हैं कपास की फसल के उतार चढ़ाओ के बारे में आइये जानते हैं कैसा रहेगा कपास का बाजार राजस्थान मंडियों में , संपूर्ण जानकारी के लिए पूरा लेख पढ़े - 👉🏻पिछले महीनों में देश में कपास की कीमतों में 5% वृद्धि हुई है, अंतर्राष्ट्रीय कीमतों में तेजी के रुझान के चलते कपास के दाम चढ़े हैं. हालांकि, कपास का निर्यात मजबूत है, क्योंकि भारतीय कपास विदेशी किस्मों की तुलना में सस्ती है. ट्रेडर्स, मिलर्स और ब्रोकर इस बात से उत्साहित हैं कि कपास की कीमतों में तेजी 2021-22 में अमेरिका, ब्राजील और भारत जैसे प्रमुख कपास उत्पादक देशों में कम बुवाई के अनुमानों के कारण बनी रहेगी! 👉🏻पिछले महीने के मुकाबले कपास की कीमतें 44,000 रुपये से बढ़कर 46,600 रुपये प्रति कैंडी हो गई हैं, क्योंकि घरेलू कपास का उत्पादन पहले की अपेक्षा काफी कम होने की उम्मीद है. कपास की एक कैंडी 356 किलोग्राम की होती है. 4 करोड़ गांठों के पहले के अनुमान के विपरीत, उद्योग को अब 2020-21 में कपास उत्पादन लगभग 3 करोड़ 30 लाख गांठ होने की उम्मीद है! 👉🏻अमेरिका और ब्राजील सहित प्रमुख कपास उत्पादक देशों में कपास का उत्पादन घटने का अनुमान है क्योंकि किसानों ने मक्का और सोयाबीन की बुआई को तरजीह दी है जिन्होंने घरेलू कीमतों को भी समर्थन दिया है. भारतीय कपास की कीमतें वैश्विक कपास की कीमतों से 13% सस्ती हैं. निर्यात पहले के 60 लाख टन के अनुमान से अधिक होने की उम्मीद है. उद्योग भारत से कपास के आयात के संबंध में पाकिस्तान सरकार के निर्णय की प्रतीक्षा कर रहा है! एमएसपी से 15 फीसदी ऊंचे दाम पर कपास- 👉🏻सफेद सोना यानी कपास की खेती इस साल किसानों के लिए फायदे का सौदा साबित हुई है. वैश्विक बाजार में रूई के दाम में आई तेजी के बाद देश में कपास का भाव इसके एमएसपी से 15 फीसदी से ज्यादा तेज हो गया है और किसान अब सरकारी एजेंसी की खरीद के मोहताज नहीं रह गए हैं. कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष अतुल गणत्रा कहते हैं कि सफेद सोना वाकई इस साल किसानों के लिए सोना बन गया है. सरकार ने कपास (लंबा रेशा) का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 5,825 रुपये प्रति क्विंटल और मध्यम रेशा वाली कपास का एमएसपी 55,15 रुपये प्रति क्विंटल तय किया है. कारोबारियों ने बताया कि गुजरात में कपास का भाव 6,500 रुपये प्रति क्विंटल है! स्त्रोत:- India Times 👉🏻प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍🏻 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
11
0
अन्य लेख