एग्री डॉक्टर सलाहमध्य प्रदेश कृषि विभाग
ऐसे बचाएं धनिया की फसल को पाले से!
👉🏻सर्दी के मौसम में जब ताममान शून्य डिग्री सेंटीग्रेड से नीचे गिर जाता है तो हवा मे उपस्थित नमी ओस की छोटी-छोटी बूंदें बर्फ के छोटे-छोटे कणों में बदल जाती है और ये कण पौधों पर जम जाते है । इसे ही पाला या तुषार कहते है । पाला ज्यादातर दिसम्बर या जनवरी माह में पड़ता है । पाले से बचाव के निम्न उपाय अपनायें । 👉🏻पाला अधिकतर दिसम्बर-जनवरी माह में पड़ता हइसलिये फसल की बुवाई में 10-20 नवंबर के बीच में करें 👉🏻यदि पाला पड़ने की संभावना हो तो फसल की सिंचाई तुरंत कर देना चाहिए । 👉🏻जब भी पाला पड़ने की संभावना दिखाई दे, तो आधी रात के बाद खेत के चारो ओर कूड़ा-करकट जलाकर धुआॅ कर देना चाहिए। 👉🏻पाला पड़ने की संभावना होने पर फसल पर गंधक अम्ल 0.1 प्रतिशत (1.0 एम एल/ली.) का छिड़काव शाम को करें । 👉🏻जब पाला पड़ने की पूरी संभावना दिखाई दे तो डाइमिथाइल सल्फोआक्साईड (डीएमएसओ) नामक रसायन 75ग्रा./1000ली. का 50 प्रतिशत फूल आने की अवस्था में 10-15 दिन कें अंतराल पर करने से फसल पर पाले का प्रभाव नही पड़ता है । 👉🏻व्यापारिक गंधक 15 ग्राम$ बोरेक्स 10 ग्राम प्रति पम्प का छिड़काव करें । स्रोत- मध्य प्रदेश कृषि विभाग, यदि आपको आज के सुझाव में दी गई जानकारी उपयोगी लगे, तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
9
5
अन्य लेख