क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
कृषि वार्ताआउटलुक एग्रीकल्चर
उर्वरकों के संतुलित इस्तेमाल के बारे में सरकार एक लाख गांवों में जागरूकता अभियान चलाएगी!
केंद्र सरकार जैविक उर्वरकों का उपयोग बढ़ाने के लिए किसानों को जागरूक करेगी। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार जैविक उर्वरकों के उपयोग को बढ़ावा देने और रासायनिक खादों के इस्तेमाल को कम करने के लिए एक लाख से अधिक गांवों में मिशन की तरह से जागरूकता अभियान चलाएगी। उन्होंने बताया कि यह फैसला, वर्ष 2015 में शुरू की गई मृदा स्वास्थ्य कार्ड (एसएचसी) योजना की प्रगति की समीक्षा के बाद लिया गया है। इस योजना के तहत, दो साल के अंतराल पर किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड दिए जाते हैं। यह कार्ड किसानों को उनकी मिट्टी की पोषक स्थिति के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं और साथ ही मृदा स्वास्थ्य और उसकी उर्वरता-क्षमता में सुधार के लिए पोषक तत्वों के उचित मात्रा में उपयोग की जानकारी देते हैं। मृदा स्वास्थ्य कार्ड के अनुसार खादों के प्रयोग से फसल उत्पादन 5-6 फीसदी तक बढ़ा केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि मिट्टी के रासायनिक, भौतिक और जैविक स्वास्थ्य की गिरावट को भारत में कृषि उत्पादकता में ठहराव के कारणों में से एक माना जाता है। इसलिए मंत्रालय के अधिकारियों को चालू वित्त वर्ष में एक लाख से अधिक गांवों में किसानों के लिए मिशन अभियान की तरह जागरूकता अभियान चलाने को कहा गया है। बयान में कहा गया है कि मृदा स्वास्थ्य कार्ड में उपलब्ध सिफारिशों के अनुसार उर्वरकों और सूक्ष्म पोषक तत्वों के उपयोग के कारण फसलों की उपज में 5-6 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। स्रोत – आउटलुक एग्रीकल्चर, 7 मई 2020 आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो, इसे लाइक करें और अपने सभी किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
209
0
संबंधित लेख