AgroStar
ई -नाम योजना, दुगनी होगी आय लाखों  मुनाफा!
समाचारAgrostar
ई -नाम योजना, दुगनी होगी आय लाखों मुनाफा!
👉🏻केन्द्र सरकार द्वारा किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए कई किसान कल्याण से जुड़ी हुई योजनाए शुरू की। सरकार लगातार यह प्रयास करती रहती है कि किसानों की आय को दुगना कैसे किया जाए। ऐसी कई तमाम समस्याओं के निदान के लिए सरकार ने राष्ट्रीय कृषि बाजार की शुरूआत की। किसानों के लाभ के लिए ऑनलाइन मंडी किसानों के लिए बहुत फादेमंद साबित हो रही है। e-NAM को हिंदी में राष्ट्रिय कृषि बाजार एवं इंग्लिश में National Agriculture Market के नाम से भी जाना जाता हैं। 👉🏻देश के कई किसान इसके साथ जुड़ चुके है। जिसका फायदा यह हुआ है किसानों की आय दोगुनी हो रही है। सरकार भी लगातार किसानों के आर्थिक विकास के लिए लगातार प्रयास कर रही रही है। ऐसी कई योजनाएं है जो सरकार द्वारा संचालित की जा रही है। जिनमे किसान कॉल सेन्टर टोल फ्री नंबर, DBT Urvarak Subsidy Yojana 2022 आदी शामिल है। किसान भाईयों आज हम आपको ई-नाम/e-NAM बारे में जानकारी देने जा रहे है। e-NAM योजना क्या है? 👉🏻e-NAM पोर्टल एक राष्ट्रीय कृषि बाजार है जो ऑनलाइन फसल बिक्री के लिए काम करता है। किसान अपनी फसल का उचित मूल्य प्राप्त करने और खरीदने और बेचने के लिए अपना ऑनलाइन पंजीकरण करा सकते हैं। किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य प्रदान करने के लिए देश भर में कृषि बाजार मंडी की स्थापना की गई है और अब यह राष्ट्रीय कृषि बाजार के रूप में कार्य करती है। राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना / e-NAM मंडी का उद्देश्य- 👉🏻गौरतलब है कि ई-नाम कृषि बाजार/ e-NAM Portal एक तरह का ऑनलाइन पोर्टल है। इसके माध्यम से देश के सभी किसानों को 585 से अधिक कृषि उपज मंडी में अपने अनाज या फसल को उचित दामों में बेचने का बाजार आसानी से उपलब्ध होता है। ई-नाम कृषि बाजार/ e-NAM देश के एग्री मार्केटिंग कम्यूनिट को एक नेटवर्क से जोड़ने का कार्य कर रही है। 👉🏻इसका उद्देश्य यह है कि एग्रीकल्चर प्रोडक्ट के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक व्यवस्थित और उचित बाजार मिल जाए। जिसमें किसानों को उनकी कृषि उपज, फसल और अनाज के बदले सहीं रकम मिल जाए। ई-नाम पोर्टल/ eNAM portal की इसी विशेषता को देखते हुए कई किसान तेजी से इसके साथ जुड़ रहे है। नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट के माध्यम से कृषि उत्पादों को आसानी से अधिक दाम मिल जाते है। किसानों के लिए थी बड़ी समस्या ? 👉🏻ई-नाम पोर्टल के आने से पहले किसानों की सबसे बड़ी समस्या यह थी कि वह जो फसल उगा रहे हैं उस पर मेहनत कर रहे हैं, लेकिन जब वह फसल को बाजार में ले जाते हैं तो बिचौलिए को दे देते हैं। और वह बिचौलिया उसे खरीदार को बेचता है, ऐसे में किसानों को बिचौलियों ने कम पैसे देकर खरीद लिया और किसानों को उनकी फसल के बदले में उचित मूल्य नहीं मिल सका, लेकिन इस पोर्टल के आने से यह समस्या अब खत्म हो गई है। e-NAM कृषि बाजार रजिस्ट्रेशन के आवश्यक दस्तावेज- - पहचान पत्र (ड्राइविंग लाइसेंस, मतदाता परिचय पत्र) - बैंक पासबुक की फोटोकॉपी - आधार कार्ड - मोबाइल नंबर - एक पासपोर्ट साइज का नया फोटो स्त्रोत:- Agrostar 👉🏻किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
11
0
अन्य लेख