कृषि यांत्रिकरणकृषि जागरण
इस मशीन से धान की रोपाई करने से 10 दिन पहले तैयार होगी फसल, जानिए इसकी खासियत!
👉 देशभर के किसानों ने धान रोपने की तैयारी शुरू कर दी है. हमारे देश में अधिकतर किसान धान की खेती को प्रमुखता देते है. इसी कड़ी में सरकार ने अपने राज्य के किसानों को एक महत्वपूर्ण सलाह दी है। क्या है डीएसआर मशीन:- 👉 इस मशीन द्वारा धान की रोपाई करने से पानी की अच्छी बचत होती है, तो वहीं फसल भी लगभग 10 दिन पहले पककर तैयार हो जाती है. आमतौर पर किसान धान के सीजन में लगभग 15 जून से पारंपरिक विधि से पौध तैयार करके रोपाई करने लगते हैं. इस विधि में खेत में पानी भरकर रोपाई की जाती है. इसके बाद भी खेत में पानी बनाए रखना पड़ता है. तापमान अधिक होने की वजह से पानी का वाष्पीकरण बहुत अधिक मात्रा में होता है, साथ ही इसमें मेहनत भी ज्यादा लगती है। कैसे करें डीएसआर मशीन से बिजाई:- 👉 किसान भू-जल, लेबर और समय की बचत करने के लिए धान की सीधी बिजाई डीएसआर मशीन द्वारा कर सकते हैं. इस मशीन का उपयोग करने से पहले खेत में लेजर लेवलर द्वारा समतल किया जाना जरूरी है. इसके बाद पानी से तर-बतर अवस्था में धान की सीधी बिजाई की जा सकती है. बता दें कि इस विधि से बिजाई करने में 15 से 20 प्रतिशत तक पानी की बचत होती है। 10 दिन पहले तैयार होगी फसल:- 👉 इस मशीन से रेतीली जमीनों में धान की बिजाइ नहीं करना चाहिए. किसानों के केवल उन्हीं खेतों में बिजाई करना चाहिए, जिसमें पहले से ही धान की खेती हो रही हो. धान की सीधी बिजाई करने से जहां एक ओर पैदावार रोपाई करके लगाई गई धान की फसल के बराबर मिलती है, तो वहीं दूसरी ओर फसल 7 से 10 दिन पहले पककर तैयार हो जाती है. इस वजह से धान की पराली संभालने के लिए समय मिल जाता है, साथ ही गेहूं व सब्जियों की बिजाई करने के लिए अधिक समय मिल जाता है। स्रोत:- Krishi Jagran, 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍🏻 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
6
0
संबंधित लेख