नई खेती नया किसानKrishi Jagran
इन 4 विदेशी सब्जियों की खेती से कमाएं लाखों!
🌱आजकल देश के बड़े शहरों के फाइव स्टार होटल्स, बड़े रेस्टोरेंट्स में विदेशी सब्जियों की डिमांड है. वहीं हेल्थ कॉन्शियस लोग भी इन सब्जियों को बेहद चाव से खाना पसंद करते हैं. ऐसे में आइए जानते हैं वे चार विदेशी सब्जियां, जिनकी बड़े होटल्स में अच्छी डिमांड है! रेड स्विस चार्ड- 👉🏻इसका पौधा देखने में चुकंदर जैसा होता है. वहीं इसका बाज़ार भाव 600 रुपए प्रति किलो है. इसकी बीटा वल्गैरिस किस्म की खेती की जा सकती है. बारिश के मौसम में यह 1200 रुपए किलो तक बिकता है. ठंडे प्रदेशों में इसकी खेती अधिक होती है. वहां यह ठंड के दिनों में 100 रुपए किलो तक बिकता है. इसमें कंद का विकास नहीं होता है, बल्कि इसकी पत्तियों में लाभकारी मिनरल्स पाए जाते हैं. इसकी खेती के लिए 28 डिग्री सेल्सियस तापमान होना चाहिए. तापमान बढ़ने में इसकी पत्तियां मुरझा जाती हैं. यह 45 दिनों की फसल होती है. इसके एक पौधे से 200 सब्जी निकलती है! रेड बेसिन - 👉🏻ग्रीन बेसिल की तुलना में रेड बेसिल खाने में काफी स्वादिष्ट होता है. इसका उपयोग थाई, इतालवी और वियतनामी व्यंजनों में भरपूर किया जाता है. बड़े होटल्स में इसकी खूब डिमांड है, यह बाजार में 600 रुपए किलो तक बिकता है. बड़े होटल्स में इसकी भी काफी डिमांड है. वहीं हेल्थ के प्रति जागरूक लोग इसका सेवन करना पसंद करते हैं! लोला रोजा - 👉🏻इसकी पत्तियां कोने पर लाल और मध्य में हरे रंग की होती हैं. इसमें विटामिन-ए, विटामिन-सी, फोलेट एसिड और आयरन जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं. इसमें उच्च मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं, जो अस्थमा और एलर्जी को दूर करने में मददगार हैं. यह भी काफी महंगे दाम में बिकती है! ग्रीन स्विस चार्ड - 👉🏻इसकी पत्तियां खाने में उपयोग में आती है. बर्गर में इसका उपयोग किया जाता है. इसके पत्तों और डंठल में विटामिन समेत अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं. आंखों की सेहत के लिए यह बेहद उपयोगी सब्जी है! स्त्रोत:- कृषि जागरण 👉🏻प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। यदि दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
12
1
अन्य लेख