सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
आलू में सफेद लट (व्हाइट ग्रव) का नियंत्रण!
👉🏻किसान भाइयों यदि आप आलू की खेती कर रहे हैं तो आलू की फसल को नुकसान पहुंचाने वाले कीट की पहचान एवं उन पर नियंत्रण की जानकारी होना बहुत जरूरी है। आलू में लगने वाले व्हाइट ग्रब यानी सफेद लट का नियंत्रण कैसे करें इसके बारे में जानेंगे। सफेद लट की पहचान 👉🏻यह मिट्टी में रहने वाले मटमैले सफेद रंग की इल्ली होती है। 👉🏻इनका शरीर मोटा और मुंह गहरे भूरे रंग का होता है। सफेद लट प्रकोप के लक्षण 👉🏻यह कीट पौधों की जड़ों, तना के साथ कंद को भी खाकर फसल को नुकसान पहुंचाते हैं। 👉🏻प्रभावित पौधे सूखने लगते हैं। 👉🏻आलू के कंद में सुराख नजर आने लगता है। सफेद लट कीट नियंत्रण के उपाय 👉🏻बुवाई से पहले खेत की अच्छी तरह जुताई करें। इससे मिट्टी में पहले से मौजूद कीट ऊपर आ कर तेज धूप से नष्ट हो जाएंगे। 👉🏻खेत में कच्ची गोबर का प्रयोग ना करें। 👉🏻जुताई के समय प्रति एकड़ खेत में 8 से 10 किलोग्राम फिप्रोनिल 0.3 प्रतिशत जी.आर मिलाएं। 👉🏻प्रति एकड़ जमीन में 2.5 से 3 किलोग्राम कार्बोफ्यूरान 3 जी का प्रयोग करें। 👉🏻प्रति लीटर पानी में 2.5 मिलीलीटर क्लोरपायरीफॉस 20 ईसी मिलाकर छिड़काव करें। स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, 👉🏻 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
7
6
अन्य लेख