एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
आलू की खड़ी फसल में डालें ये उर्वरक!
👉किसान भाइयों आलू की फसल में खाद एवं उर्वरकों का प्रयोग मृदा परीक्षण की संस्तुतियों के आधार पर करना अधिक लाभदायक होता है। यदि मृदा परीक्षण नहीं हुआ है तो ऐसी स्थिति में सिंचित दशा में प्रथम सिंचाई के बाद 40 किग्रा यूरिया+भूमिका 4 किग्रा० प्रति एकड़ की दर से भुरकाव या मृदा के माध्यम से दें। यदि बुवाई के समय सल्फर नहीं दिया गया है तो सल्फर 90% @ 3 किग्रा० प्रति एकड़ की दर से भुरकाव करें। 👉अच्छे वृद्धि व विकास हेतु घुलनशील उर्वरकों का प्रयोग भी लाभदायक है इसके लिए एनपीके 19:19:19 @ 1 किलोग्राम + सूक्ष्म पोषक तत्व युक्त प्रोकिसान @ 250 ग्राम प्रति एकड़ 200 लीटर पानी में घोलकर फसल पर छिड़काव करें। स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, 👉प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
14
2
अन्य लेख