समाचारTV9
आर्गेनिक फार्मिंग से जुड़े 44.33 लाख किसान!
👉साल 2004-05 में जैविक खेती पर राष्‍ट्रीय परियोजना (NPOF-National Project on Organic Farming) की शुरूआत की गई. नेशनल सेंटर ऑफ आर्गेनिक फार्मिंग के मुताबिक 2003-04 में भारत में जैविक खेती सिर्फ 76,000 हेक्टेयर में हो रही थी, जो 2009-10 तक बढ़कर 10,85,648 हेक्टेयर हुई! खेती योग्य 2.71 फीसदी जमीन पर आर्गेनिक फार्मिंग- 👉अब सरकार इस पर काफी पैसा खर्च कर रही है, लोगों को ऐसी खेती के फायदे समझा रही है. इस मुहिम की वजह से इस समय (2020-21) 38.9 लाख हेक्टेयर में जैविक खेती हो रही है. जो कुल खेती योग्य जमीन (140 मिलियन हेक्टेयर) का 2.71 फीसदी है. हालांकि, जिले स्तर के अधिकारी अगर ‘खाने-खिलाने’ वाला चक्कर छोड़ दें तो इसमें और इजाफा हो सकता है! आर्गेनिक कृषि उत्पादों का कुल एक्सपोर्ट- 👉विश्व में प्रमाणित जैविक क्षेत्र के संबंध में भारत का 5वां और किसानों के संबंध में पहला स्थान है. देश में 44.33 लाख किसान आधिकारिक तौर पर जैविक खेती कर रहे हैं. एपिडा के मुताबिक 2020-21 के दौरान 7078.5 करोड़ रुपये के आर्गेनिक प्रोडक्ट का एक्सपोर्ट किया. अमेरिका, यूरोपीय संघ, कनाडा, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया, स्विटजरलैंड और इजराइल आदि भारतीय जैविक कृषि उत्पादों के सबसे बड़े मुरीद हैं! आर्गेनिक खेती के लिए योजनाएं- 👉इस खेती को प्रमोट करने के लिए केंद्र सरकार इस वक्त दो योजनाएं चला रही है- -परंपरागत कृषि विकास योजना (PKVY-Paramparagat Krishi Vikas Yojana). -पूर्वोत्तर क्षेत्र मिशन आर्गेनिक वैल्यू चेन डेवलपमेंट (MOVCD NER). स्त्रोत:- TV9 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
31
3
अन्य लेख