AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
अब मिंटो में होगा खेती का काम!
कृषि वार्ताAgroStar
अब मिंटो में होगा खेती का काम!
👉खरपतवार नियंत्रण करने वाले 5 कृषि उपकरण, जानिए इनका उपयोग और कीमत:- खरपतवार नियंत्रण करने वाले कृषि उपकरण खास महत्व रखते हैं, जो फसल में खरपतवार की रोकथाम करते हैं. इससे फसलों की पैदावार बढ़ जाती है. इसके अलावा खरपतवार नियंत्रण करने वाले उपकरण फसल में निहित प्रोटीन व अन्य लाभकारी तत्व एवं फसलों की गुणवत्ता में वृद्धि करने में मदद करते है. 1. ड्राईलैंड पेग वीडर:- ड्राईलैंड पेग वीडर का उपयोग सब्जी, फलों के बाग और अंगूर उद्यानों में खरपतवार को हटाने के लिए किया जाता है. इस यंत्र के साथ सख्त मिट्टी की परत को तोड़कर उसे उपजाऊ बनाने में भी किसानों को मदद मिलती है. यह एक हस्तचालित यंत्र है, जो फसल की कतारों के बीच खर-पतवार को नष्ट करने का काम करता है. भारत में ड्राईलैंड पेग वीडर की कीमत लगभग 800 से 1000 रुपये हो सकती है. 2. व्हील हैंड होई:- व्हील हैंड होई का उपयोग पंक्ति युक्त सब्जियों की फसलों और अन्य फसलों में निराई करने के लिए किया जाता है, जिससे खरपतवार हटाई जा सके. व्हील हैंड होई एक लंबे हैंडल वाला यंत्र है. इसे आगे पीछे धकेलने की प्रक्रिया के साथ चलाया जाता है.भारत में व्हील हैंड होई की कीमत लगभग 1200 रुपये हो सकती है. 3. कोनो वीडर :- कोनो वीडर का उपयोग पंक्तियुक्त धान की फसल में खरपतवार को हटाने के लिए किया जाता है. इसे आसानी से चलाया जा सकता है और इसे चलाने पर पोखर मिट्टी में नहीं धंसता है. इस खरपतवार नियंत्रण करने वाले कृषि यंत्र में आपको दो रोटर, फ्लोट, फ्रेम और हैंडल देखने को मिल जाते हैं. इसमें चारो तरफ दांतेदार स्ट्रिप्स आती है. इसके रोटर आगे और पीछे कर्म में लगे होते है. इस यंत्र में फ्लोट, रोटर और हैंडल फ्रेम को एक साथ जोड़ा गया है. भारत में कोनो वीडर की कीमत लगभग 1500 रुपये हो सकती है. 4. पावर टिलर स्वीप टाईन कल्टीवेटर :- पावर टिलर स्वीप टाईन कल्टीवेटर का उपयोग सोयाबीन, ज्वार, काला चना और अरहर आदि जैसे खड़ी फसल में खरपतावार को नियंत्रण करने के लिए किया जाता है.इस यंत्र का इस्तेमाल मध्यम और हल्की मिट्टी में किया जाता है. भारत में पावर टिलर स्वीप टाईन कल्टीवेटर की कीमत लगभग 15 हजार रुपये हो सकती है. 5. मल्चिंग:- खरपतवार नियंत्रण में मल्चिंग की भूमिका काफी महत्वपूर्ण है। मल्च, जब मिट्टी की सतह पर बिछाया जाता है, तो यह सूर्य की प्रत्यक्ष रोशनी को मिट्टी तक पहुँचने से रोकता है। इस तरह से, यह खरपतवारों के बीजों के लिए आवश्यक प्रकाश को अवरुद्ध करता है, जिससे उनका अंकुरण और विकास रुक जाता है। मल्चिंग बाजार में निम्न कीमतों में उपलब्द है । 👉स्त्रोत:- AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद।
65
0
अन्य लेख