AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
अब किसान खुशियों से झूम उठेगा !
समाचारAgroStar
अब किसान खुशियों से झूम उठेगा !
✅ लगातार सघन खेती, कार्बनिक अंश की कमी के कारण मिट्टी की उपजाऊ शक्ति कमजोर हो रही है। मिट्टी में बहु पोषक तत्वों, सूक्ष्म पोषक तत्वों, जल धारण क्षमता में कमी के कारण फसलों की पैदावार में कमी आती जा रही है। ऐसे में इनका उचित प्रबंधन करना बहुत जरुरी हो गया है। ✅ किसान यहाँ करायें मिट्टी और पानी की जांच मिट्टी के नमूनों का संग्रहण मोबाइल एप के माध्यम से ऑनलाइन किया जा रहा है। ऐसे में जो किसान अपने खेत की मिट्टी व नलकूप या कुएं के पानी की जांच करवाना चाहते हैं वे मिट्टी और पानी का सैंपल लेकर कृषि पर्यवेक्षक या मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला दौसा, बांदीकुई, मंडावर में जमा करवाकर निर्धारित शुल्क 5 रुपये जमा करके जांच रिपोर्ट प्राप्त कर सकते हैं। ✅ अप्रैल एवं मई महीने में खेत ख़ाली रहते हैं। इस समय किसान अपने खेतों की मिट्टी की जांच अवश्य करवायें और कृषि विभाग द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली मृदा जांच रिपोर्ट की सिफारिश अनुसार ही खाद एवं उर्वरकों का प्रयोग करें। ✅ किसान इस तरह लें मिट्टी के सैंपल सबसे पहले खेत की मिट्टी की ऊपरी सतह साफ कर रेंडमली या (Zigzag) आधार पर 8 से 10 स्थानों का चयन कर 15 सेंटीमीटर गहरा गड्डा खोदकर खुरपी की सहायता से परत के रूप में मिट्टी एकत्रित करते हैं। एकत्रित मिट्टी को हाथ से अच्छी तरह मिलाकर ढेर बना लेते हैं उसके बाद बीच में आड़ी व खड़ी लाइन डालकर चार भाग कर लेते हैं। आमने सामने के दो भाग फेंक दे व दो भागों को फिर से अच्छी तरह मिलाएँ पुनः ढेर बनाकर चार भाग करके उक्त प्रक्रिया को तब तक दोहराएँ जब तक मिट्टी लगभग 500 ग्राम नहीं रह जाए। इस तरह मिट्टी को साफ कपड़े की थैली में भरें। ✅ किसानों ने जो मिट्टी के नमूने को जांच के लिये थैली में रखा है उस पर किसान का नाम, पता, मोबाइल नंबर, खेत की पहचान, खसरा नम्बर एवं बोई जाने वाली सिंचित अथवा असिंचित फ़सल की जानकारी आदि एक लेबल थैली के ऊपर व एक अंदर बांध दें। इसके बाद थैली को मिट्टी जांच के लिये नजदीकी कृषि विभाग के कार्यालय या मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला में जमा करायें। ✅ मिट्टी जांच से यह लाभ मिलेगा किसान अपने खेतों की मिट्टी की जांच अवश्य करायें जिससे आवश्यकता से अधिक रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग पर नियंत्रण किया जा सके। किसान कृषि विभाग द्वारा उपलब्ध करवाई जाने वाली मिट्टी की जांच रिपोर्ट की सिफारिश के अनुसार ही फसलों में खाद एवं उर्वरक का उपयोग करें जिससे कम लागत से अधिक उत्पादन प्राप्त किया जा सके व कृषि में आ रही लागत को भी कम किया जा सके। ✅ स्त्रोत:-AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट 💬करके ज़रूर बताएं और लाइक 👍एवं शेयर करें धन्यवाद।
31
0
अन्य लेख