AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
अब किसान के चेहरे पे आएगी खुशी!
समाचारAgroStar
अब किसान के चेहरे पे आएगी खुशी!
✅ भारत सरकार पिछले कुछ समय से मक्के का उत्पादन बढ़ाने पर जोर दे रही है, जिसकी एक बड़ी वजह है इथेनॉल का उत्पादन. सरकार की इस योजना को फार्म-टू-ईंधन कार्यक्रम कहा जा रहा है, जिसके माध्यम से किसानों को अधिक मक्का उगाने के लिए प्रेरित किया जाएगा. ✅ भारत सरकार गेहूं और चावल के बाद मकई को अगली बड़ी व्यावसायिक फसल के रूप में देख रहा है, ताकि बंपर पैदावार के माध्यम से अपनी ऊर्जा सुरक्षा को बढ़ाया जा सके. जिसका उपयोग देश के ईंधन-मिश्रण कार्यक्रम के लिए इथेनॉल बनाने में किया जा सके. इसे फार्म-टू-ईंधन कार्यक्रम कहा जा रहा है, उसके माध्यम से किसानों को अधिक मक्का उगाने के लिए प्रेरित किया जाएगा. ✅ भारत का लक्ष्य अगले पांच वर्षों में मक्के का उत्पादन 10 मिलियन टन तक बढ़ाना है, क्योंकि इथेनॉल उत्पादन की मांग बढ़ रही है. इसके अलावा पोल्ट्री उद्योग की मांग भी बढ़ रही है, जो इसे चारे के रूप में उपयोग करता है. 2022-23 में तीसरे सबसे अधिक उगाए जाने वाले अनाज का उत्पादन 34.6 मिलियन टन होने का अनुमान है, जबकि पिछले साल यह 33.7 मिलियन टन था. ✅ भारतीय मक्का अनुसंधान संस्थान के निदेशक के अनुसार, "भारतीय मक्का अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक उच्च उपज वाले बीज बनाने के लिए नए प्रयोग कर रहे हैं, जो उत्पादकता को बड़े पैमाने पर बढ़ा सकते हैं." इथेनॉल जैसे जैव ईंधन मुख्य रूप से गन्ने और चावल और मक्का जैसे अनाज से बनाए जाते हैं. देश का लगभग 25% इथेनॉल गन्ने के रस से बनता है, जबकि अन्य 50% गुड़ से बनता है. बाकी अनाज से आता है. अहूजा ने कहा, "भारतीय मक्का अनुसंधान संस्थान और कृषि मंत्रालय के सहयोग से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मक्का की खरीद करने, इसका उत्पादन बढ़ाने और इसकी उत्पादकता बढ़ाने के लिए एक बड़ी योजना चल रही है." ✅ इस साल चीनी आपूर्ति में अनुमानित गिरावट के बीच 2025-26 तक इथेनॉल के साथ पेट्रोल के 20% मिश्रण को प्राप्त करने का कार्यक्रम पटरी पर है. केंद्र की योजना अपने द्वारा खरीदे गए मक्के को इथेनॉल बनाने वाली डिस्टिलरीज को बेचने की है. खरीद से तात्पर्य किसानों द्वारा संकटपूर्ण बिक्री से बचने के लिए निर्धारित न्यूनतम मूल्य पर खाद्य वस्तुओं की सरकार द्वारा खरीद से है. 2023-24 के लिए मक्के की न्यूनतम दर 2,090 रुपये प्रति क्विंटल (100 किलोग्राम) है. ✅ स्त्रोत:- AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट 💬करके ज़रूर बताएं और लाइक 👍एवं शेयर करें धन्यवाद।
47
0
अन्य लेख