AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
09 Mar 20, 10:00 AM
सल्लागार लेखअॅग्रोस्टार अॅग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस
औषधीय और सुगंधित पौधों में लगनेवाले कीटों के बारे में जानें
• किसान पूरे देश में औषधीय और सुगंधित फसलों जैसे कि इसबगोल, कालमेघ, अश्वगंधा, सफ़ेद मुसली, डोडी आदि की खेती करते हैं। देश भर में किसी भी स्तर पर इन फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले कई कीट हैं। • माहु (मोयला): पत्तियों की सतह के नीचे से रस चूसते है। इसके कारण पौधे की प्रकाश संश्लेषक गतिविधि में बाधा होती है। ईसबगोल फसल इस कीट के लिए अतिसंवेदनशील है। • हरा तेला: निम्फ और प्रौढ़ दोनों पत्तियों और पौधों के नरम भागों से रस चूसते हैं। नतीजा, पत्तियों के कोने का पीले रंग का हो जाता है और ऊपर की ओर मुड़ जाता है और कप के आकार का दिखाई देता है। • सफ़ेद मक्खी: निम्फ और प्रौढ़ दोनों ही पत्तियों से रस चूसते हैं। • थ्रिप्स: कीट पत्ती की सतह को ढीला करते हैं और को चूसते हैं। पत्ती की सतह पर सफेद धारियां होती हैं। पत्तियां मोटी और मूड जाती हैं। यदि सिंचाई के बीच की अवधि बढ़ाई जाती है। इससे जनसंख्या बढ़ती है। • मकड़ी:पत्तियों की निचली सतह पर शेष रहकर कोशिका से रस चूसते। पत्तियों पर सफेद धब्बे दिखाई देते हैं। पत्तियां बीमार दिखाई देती हैं और पौधे के विकास में बाधा डालती हैं। • मिली बग: पत्तियों, अंकुर, कलियों, फूलों, फली और तने की सतह के नीचे से रस चूसते है। पत्तियां डी-शेप हो जाती हैं। • सिट्रस सिलिया: नए उभरे हुए पत्तों, कलियों और नाजुक विकसित शूट (शीर्ष) के रस चूसते । नतीजा, संक्रमित हिस्से पीले पड़ने और गलने लगते हैं। • हीरक पृष्ठ कीट: इल्ली औषधीय पौधों जैसे कि असाल्यो फसल पर अंडे देते हैं और फसल को नुकसान पहुंचाते हैं। • हेलिकोवर्पा: इस पत्ते खानेवाली इल्ली के कारण नुकसान कलमेघ औषधीय पौधे में बहुत अधिक देखा जाता है। • लीफ माइनर: उभरते हुए इल्ली पत्ती में प्रवेश करती हैं और अंदर करते हैं। इल्ली पत्ती और क्षति पर टेड़े मेढे सुरंग बनाते हैं। • पत्ते खानेवाली इल्ली: यह इल्ली पत्तियों, फूलों और विकासशील कलियों पर अंडे देती हैं। • दीमक: दीमक का पौधों की जड़ प्रणाली पर जड़ को खता है और इसके कारण पौधे सूख जाते हैं। इस तरह के कीटों के नियंत्रण के लिए, रासायनिक कीटनाशकों के अवशेषों को देख वानस्पतिक या जैव कीटनाशकों का छिड़काव करें। स्रोत: एगोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इस उपयोगी जानकारी को लाइक करें और अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
9
3