क्षमस्व, हा लेख आपण निवड केलेल्या भाषामध्ये नाही
कृषि वार्ताकृषि जागरण
खुशखबरी: पाएं नाबार्ड द्वारा 20 लाख रुपये के ऋण पर 36% सब्सिडी!
सरकारें संकट के समय कृषि को एक लाभदायक व्यवसाय बनाने के लिए सभी प्रकार के प्रयास कर रही हैं। केंद्र सरकार ने भी वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने की योजना बनाई है। इस बीच,अब सरकार ने कृषि व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए एक योजना तैयार की है। तो, अगर आप भी एक लाभदायक कृषि व्यवसाय की तलाश में हैं, तो इसके लिए आपको पूरी जानकारी मिलेगी। अब, एक व्यक्ति जो कृषि से जुड़ा है या इसमें शामिल होना चाहता है, वह 20 लाख रुपये तक का ऋण ले सकता है। यह राशि एग्री क्लिनिक और एग्री बिजनेस सेंटर योजना के माध्यम से प्राप्त की जा सकती है। इस योजना से जुड़ने वाले इच्छुक व्यक्ति को 45 दिनों के प्रशिक्षण की आवश्यकता होगी। इसके बाद, यदि आप योग्य पाए जाते हैं, तो NABARD यानी नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट आपको लोन देगा। एग्री क्लिनिक और एग्री बिजनेस सेंटर योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदन कैसे करें:- अगर आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आप इस लिंक पर www.acabcmis.gov.in जा सकते हैं। अब प्रशिक्षण के लिए एक कॉलेज चुनें। इन सभी प्रशिक्षण केंद्रों को भारत सरकार के कृषि मंत्रालय के एक संगठन, राष्ट्रीय कृषि विस्तार प्रबंधन संस्थान (MANAG) हैदराबाद से जोड़ा गया है। यह संस्थान भारतीय कृषि मंत्रालय के अधीन है। कृषि क्लिनिक और कृषि व्यवसाय केंद्र योजना के मुख्य उद्देश्य:- सरकार यह कर्ज इसलिए दे रही है ताकि एग्रीकल्चर से संबंधित एग्रीकल्चर ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट या डिप्लोमा कोर्स करने वाले व्यक्ति खेती से जुड़े बिजनेस करने में मदद कर सके। लिहाजा, युवाओं को रोजगार भी मिलेगा और उस क्षेत्र के किसान भी आगे बढ़ सकेंगे। एग्री क्लिनिक और एग्री बिजनेस सेंटर योजना के तहत प्राप्त होगी राशि:- प्रशिक्षण पूरा होने के बाद, आवेदकों को कृषि से संबंधित व्यवसाय शुरू करने के लिए नाबार्ड से ऋण लेने के लिए पूरी मदद प्रदान की जाएगी। कृषि व्यवसाय शुरू करने के लिए, आवेदकों (उद्यमियों) को 20 लाख रुपये तक का ऋण दिया जाता है और पांच व्यक्तियों के समूह को 1 करोड़ रुपये तक का ऋण दिया जाता है। इसमें और अधिक जोड़ते हुए, 36% सब्सिडी सामान्य श्रेणी के आवेदकों को और 44% अनुसूचित जाति, जनजाति और महिला श्रेणी के आवेदकों को इस ऋण पर दी जाती है।
46
8
संबंधित लेख