Looking for our company website?  
वयस्क पशुओं के लिए संतुलित आहार
वयस्क पशु के लिए 1 किलो पशुआहार ( 20 % प्रोटीन युक्त ) शरीर को निर्वाह के लिए दिया जाना चाहिए। अगर पशुआहार में प्रोटीन की मात्रा कम हे तो 1.5 किलोग्राम पशुआहार देना...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
21
1
ग्रीष्मकालीन फसलों में अंतर शस्य क्रियाएँ
ग्रीष्मकालीन मूँग, उड़द, सूरजमुखी तथा मूंगफली में आवश्यकतानुसार निराई गुड़ाई व सिंचाई करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
7
0
गन्ना में अन्तः फसल प्रबंधन
शरदकालीन गन्ने के साथ यदि अन्त: फसलें उगाई हों तो उनकी कटाई उपरान्त तत्काल सिंचाई कर यूरिया 50 किलोग्राम यूरिया प्रति एकड़ की दर से डालकर गुड़ाई करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
6
1
गन्ना में शीर्ष तना छेदक एवं जड़ छेदक कीट का नियंत्रण
गन्ना में शीर्ष तना छेदक एवं जड़ छेदक कीट के नियंत्रण के लिए फिप्रोनिल 0.3% जीआर 10 किलोग्राम प्रति एकड़ की दर से भुरकाव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
9
2
हाइब्रिड नेपियर घास
हाइब्रिड नेपियर घास अधिक उत्पादक तो देता ही है साथ ही उसमे 2 -3% ओक्सेलेट की मात्रा होने के कारण घास के रूप में उपयोग करने से कैल्शियम की मात्रा बढ़ाना आवश्यक है।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
149
22
नई फल उद्यानों की स्थापना
फलों के नई बागवानी की स्थापना हेतु निर्धारित आकार के गड्ढों की निर्धारित दूरी पर खुदाई करें। गड्ढों को खोदकर दो माह तक तेज खुली धूप में छोड़ दें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
7
1
गन्ना में उर्वरक प्रबंधन
फरवरी माह में बोए गए गन्ना में अपैल माह में ( बुआई के 45 दिन बाद) सिंचाई उपरान्त 50 किलोग्राम यूरिया प्रति एकड़ की दर से डालकर टॉप ड्रेसिंग करें तथा गुड़ाई करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
29
0
पशु आहार में उपयोगी तल की केक
अन्य खली की तुलना मे तल की खली में कैल्शियम की प्रमाण अधिक (2 %) मात्रा में होता है। इस प्रकार, तली प्रोटीन, कैल्शियम और फास्फोरस का एक अच्छा स्रोत हैं।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
244
9
ग्रीष्मकालीन गहरी जुताई
रबी फसलों की कटाई उपरांत खाली खेतों से मृदा परीक्षण हेतु नमूने निकालकर मिट्टी पलटने वाले हल से गहरी जुताई करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
47
2
करेला का बीजउपचार कैसे करें
करेले के बीज उपचार के लिए कार्बेन्डाजिम 50% डब्ल्यूपी 2 ग्राम प्रति किलोग्राम या ट्राईकोडर्मा 4 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से उपचारित करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
59
5
थानों की सूजन के लिए
इस रोग के निदान के लिए रोग के चिन्ह, दूध की जाँच या थानों की जाँच से होता है। दूध की जाँच मैस्टाइटिस डिटेक्शन किट या क्लोराइट टेस्टल केटालेज टेस्ट द्वारा किया जा सकता है।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
117
22
ग्रीष्मकालीन हरे चारे की बुआई
ग्रीष्मकालीन हरे चारे के लिए मक्का अफ्रीकन टाल, ज्वार एम पी चरी तथा लोबिया की बुआई करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
58
4
नींबू वर्गीय पौधों में पत्ती सुरंगक का नियंत्रण
नींबू वर्गीय पौधों में पत्ती सुरंगक के नियंत्रण के लिए कार्बोफ्‌यूरान 3 प्रतिशत सीजी 20 किग्रा. प्रति एकर की दर से भुरकाव कर सिंचाई करें ।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
38
1
भेड बकरी में रोग फैलने पर
भेड़ और बकरियाँ में भी गायों और भैंसों जैसी कई तरह की बीमारियों देखने को मिलती है, गाय और भैंसो की मात्रा में भेड़ और बकरियों में बीमारी का प्रसार बहुत तेजी से होता...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
77
7
लीची में फल झड़ने की रोकथाम
लीची में फल लगने के एक सप्ताह बाद प्लैनोफिक्स 1 मिली प्रति 4.5 लीटर पानी मे घोलकर छिड़काव करके फलों को झड़ने से रोका जा सकता है ।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
23
3
नींबू वर्गीय पौधों में नेमाटोड़ का नियंत्रण
नींबू वर्गीय पौधों में नेमाटोड़ के नियंत्रण के लिए कार्बोफ्यूरान 3 प्रतिशत सीजी 5 किग्रा. प्रति एकर की दर से भुरकाव कर सिंचाई करें ।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
36
4
केला में नेमाटोड़ का नियंत्रण
केला में नेमाटोड़ के नियंत्रण के लिए कार्बोफ्‌यूरान 3 प्रतिशत सीजी 50 ग्राम प्रति पौधा की दर से भुरकाव कर सिंचाई करें
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
25
1
भेड़ बाकिरियो में होने वाला enterotoxemia रोग
यह रोग क्लोस्ट्रियम नामक जीवाणु से होने वाला एक गंभीर रोग है, यह रोग में पशु दीवार के साथ शर टकराते है, चक्कर आना आदि चिन्ह होता है। इस रोग का उपचार तुरंत करना आवश्यकता...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
122
5
संतरा में सॉफ्ट ग्रीन स्केल का नियंत्रण
संतरा में सॉफ्ट ग्रीन स्केल के नियंत्रण के लिए कार्बोफ्‌यूरान 3 प्रतिशत सीजी 13.3 ग्राम प्रति पौधा की दर से भुरकाव कर सिंचाई करें ।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
19
1
केला में सिगटोका पत्ती धब्बा की रोकथाम
केला में सिगटोका पत्ती धब्बा रोग की रोकथाम के लिए टेबुकोनाज़ोल 50% + ट्राईफ्लोक्सिस्ट्रोबिन 25% डब्ल्यूजी 120 ग्राम प्रति एकर 300 लीटर पानी मे घोलकर छिडकाव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
28
1
और देखिएं