सलाहकार लेखजागरण
खुशखबरी:अब घर-घर पंहुचाया जायेगा सस्ते दामों में आलू-प्याज, पढ़ें पूरी खबर!
👉प्याज🧅और आलू🥔पिछले कुछ महीनों में काफी महंगा बिक रहा है। कई जगह पर फुटकर रेट में भी 60 रुपए किलो बिक रहा है, आलू🥔और प्याज🧅के रेट कम करने के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार ने कई कदम उठाएं हैं। एफपीओ और हॉफेड के माध्यम से यूपी के कई जिलों में सस्ते में आलू व प्याज🧅उपलब्ध करायी जाएगी। 👉उत्तर प्रदेश राज्य औद्यानिक सहकारी विपणन संघ (हॉफेड) के प्रबंध निदेशक डॉ. आरके तोमर गाँव कनेक्शन को बताते हैं, "हमारा काम है किसानों को उनकी उपज का सही दाम और उपभोक्ता को सही दाम पर उत्पाद दिलाना। जब बाजार भाव बढ़ जाते हैं तो किसान तो सस्ते में बेचता है, लेकिन रिटेलर ज्यादा पैसा कमाते हैं, इसलिए हमने सीधे किसानों से आलू लेकर बीच में से बिचौलिए को खत्म करते हुए। सीधे उपभोक्ता को आलू🥔और🧅प्याज देने का काम शुरू किया है। इसीलिए हमने एक मोबाइल वैन चलायी है, इसकी सफलता के साथ ही दूसरे जिलों में एफपीओ और समितियों के माध्यम से उत्पाद बेचा जाएगा। 👉वो आगे कहते हैं, "अभी चिप्सोना 1 आलू🥔की किस्म 38 रुपए किलो जिसका दाम बाजार में 45 से 50 रुपए प्रति किलो चल रहा है, और प्याज🧅भी दो कटेग्ररी की है, एक 50 रुपए किलो और दूसरी 60 रुपए किलो दोनों को बेचा जा रहा है। लखनऊ के जितने भी पब्लिक प्लेस हैं, वहां पर ये वैन जाएगी और आलू प्याज🧅बेचगी।" Add Image Here 👉केंद्र सरकार ने शुक्रवार (30 अक्टूबर) को कहा कि त्योहारी सीजन में उपभोक्ताओं को महंगाई का सामना न करना पड़े इसलिए भूटान से आलू🥔मंगवाया गया है। आलू की कीमतों को लेकर पीयूष गोयल ने कहा, "आलू🥔के आयात पर जो 30 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी लगती थी उस 10 लाख मीट्रिक टन का एक कोटा दिया गया है जो 31 जनवरी 2021 तक मात्र 10 प्रतिशत में आलू🥔लाया जा सकता है। इसके तहत भूटान से 30,000 टन आलू🥔आने वाला है, वहां बात हो गई है और इसके साथ ही विदेश से करीब 10 लाख टन आलू🥔लाकर हम आलू के दाम भी नियंत्रित रख पाएंगे।" 👉आलू🥔की कीमतों को कम करने के लिए उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव, उद्यान मनोज सिंह ने प्रदेश के सभी कोल्ड स्टोरेज को 31 अक्टूबर के बाद कूलिंग मशीनें न चलाने और स्टोर में रखे पुराने आलू🥔निकासी के निर्देश दिए हैं। 👉जबकि हर साल 30 नवंबर तक कोल्ड स्टोरेज से आलू🥔निकासी होती थी। उत्तर प्रदेश राज्य औद्यानिक सहकारी विपणन संघ (हॉफेड) के साथ इरादा एफपीओ काम कर रहा है। लखनऊ का एफपीओ लॉकडाउन में भी किसानों की मदद को आगे आया था, लॉकडाउन में जब बाजार तक किसान नहीं पहुंच पा रहे थे तो एफपीओ मोबाइल वैन के माध्यम से उनका उत्पाद उपभोक्ताओं तक पहुंचा रहा है, जिसकी तारीफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में भी की थी। 👉इरादा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी के सीईओ दयाशंकर सिंह बताते हैं, "हमने एफपीओ के माध्यम से लॉकडाउन में भी किसानों की मदद की थी, अभी जब आलू🥔और प्याज🧅महंगे दाम में बिकने लगा, हॉफेड से बात कि एफपीओ की मदद से किसानों की कुछ मदद कर सकते हैं। इसके लिए हमने सबसे पहले लखनऊ के अधिकतर बाजार में आलू🥔और प्याज🧅का रेट पता किया। अभी एक वैन चला रहे हैं, अगर अच्छा रिस्पॉन्स मिला तो और भी चलाएंगे। 👉🏻 खेती तथा खेती सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए कृषि ज्ञान को फॉलो करें। फॉलो करने के लिए अभी क्लिक ulink://android.agrostar.in/publicProfile?userId=558020 करें।
स्रोत- जागरण, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
9
1
संबंधित लेख