सलाहकार लेखकिसान समाधान
सर्वाधिक पैदावार वाली गेहूं की नई विकसित किस्म-करण वंदना!
👉🏻भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) लगातार किसानों की आय बढ़ाने के काम कर रहा है। भारत में बहुत से कृषि विश्वविद्यालय एवं कृषि विज्ञान केंद्र में वैज्ञानिकों के द्वारा कड़ी मेहनत से किसानों के लिए कई किस्में तैयार की जा रही है जिससे किसान कम लागत में अधिक आय प्राप्त कर सके इसी क्रम में भाकृअनुप-भारतीय गेहूँ एवं जौ अनुसंधान संस्थान, करनाल ने गेहूं की एक किस्म विकसित की है जिसका नाम है करण वंदना (DBW 187)। करण वंदना (DBW 187) किस्म क्यों है ख़ास यह किस्म इसलिए खास है क्योंकि मौजूदा किस्मों जैसे HD-2967, K-0307, HD-2733, K-1006 और DBW-39 की तुलना में इस किस्म की पैदावार बहुत अधिक है। साथ ही इस गेहूं की किस्म को अधिक सिंचाई की आवश्यकता नहीं है 2-3 सिंचाई ही करण वंदना (DBW 187) किस्म के लिए काफी है। 1. करण वंदना (DBW 187) किस्म की विशेषता यह किस्म पत्तों के झुलसने और उनके अस्वस्थ दशा जैसी महत्त्वपूर्ण बीमारियों के खिलाफ बेहतर प्रतिरोध करता है। 2.बुवाई के 77 दिनों बाद करण वंदना फूल देती है। 3. 120 दिनों बाद परिपक्व होती है। 4. इसकी औसत ऊँचाई 100 सेमी है। 5. इसकी पैदावार क्षमता 64.70 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। 6. 10 में 7.7 अंक और 43.1 लौह सामग्री के साथ इस किस्म की चपाती की गुणवत्ता बहुत बेहतर होती है। 👉🏻 खेती तथा खेती सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए कृषि ज्ञान को फॉलो करें। फॉलो करने के लिए अभी क्लिक ulink://android.agrostar.in/publicProfile?userId=558020 करें।
स्रोत-किसान समाधान, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
47
20
संबंधित लेख