कृषि वार्ताकृषि जागरण
जन धन खाताधारकों को PMJJBY और PMSBY योजना के लाभ!
केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री जनधन योजना (Pradhan Mantri Jan dhan Yojana) को 6 साल पूरे हो गए हैं। इसके तहत देश के गरीबों का खाता जीरो बैलेंस पर बैंक, पोस्ट ऑफिस और राष्ट्रीयकृत बैंको में खोला जाता है. हाल ही में, जन धन खाताधारकों के लिए एक बड़ा तोहफा दिया गया है। दरअसल, अब सरकार जन धन खाताधारकों बीमा सुरक्षा देगी। जन धन खाताधारकों को प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (PM Jeevan Jyoti Bima Yojana) और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PM Suraksha Bima Yojana) के दायरे में लाया जाएगा. इस बात की जानकारी प्रधानमंत्री जन धन योजना (PMJGY) की छठी वर्षगांठ के मौके पर की गई है। बता दें कि इस योजना के तहत पूरे 6 सालों में देश के लगभग 40 करोड़ से अधिक लोगों के बैंक खाते खोले जा चुके हैं। जन धन खाताधारकों को मिलेगा बीमा सुरक्षा - मंत्रालय ने अपने एक बयान में कहा कि जन धन योजना में से योग्य खाताधारकों को जीवन ज्योति बीमा योजना और सुरक्षा बीमा योजना की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। जानकारी के लिए बता दें कि जीवन ज्योति बीमा योजना के तहत 18 से 50 वर्ष आयुवर्ग के बैंक खाताधारकों को एक साल के लिए मात्र 330 रुपए के प्रीमियम पर 2 लाख रुपए तक का जीवन बीमा सुरक्षा उपलब्ध कराया जाता है. हर साल प्रीमियम की राशि सीधे लाभार्थी के खाते से काट ली जाती है. अगर किसी खाताधारक की मौत हो जाती है, तो यह रकम उसके निकटतम आश्रित को दी जाती है। इसके अलावा सुरक्षा बीमा योजना 18 से 70 वर्ष आयुवर्ग के बैंक खाताधारकों के लिए है. इस योजना के तहत मात्र 12 रुपए के प्रीमियम में 1 साल के लिए 2 लाख रुपए तक की दुर्घटनावश मृत्यु और 1 लाख रुपए तक की दिव्यांगता बीमा सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। पीएम मोदी ने एक ट्वीट के जरिए कहा कि जिनके बैंक अकाउंट नहीं हैं, उन्हें बैंकों से जोड़ने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य के साथ 6 साल पहले आज ही के दिन प्रधानमंत्री जन धन योजना शुरू की गई थी. यह योजना गरीबी उन्मूलन की कई पहलों की नींव साबित हुई, जिसने करोड़ों लोगों को लाभ पहुंचाया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जन धन योजना का शुक्रिया, जिसकी वजह से बहुत से परिवारों का भविष्य सुरक्षित हुआ। गौरतलब है कि अब तक जन धन योजना के तहत लगभग 40 करोड़ से अधिक खाते खोले गए हैं. इनमें से 63 प्रतिशत से अधिक खाताधारक ग्रामीण इलाकों के हैं, तो वहीं 55 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं। इसकी सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि इसके द्वारा सरकार गरीबों को मिलने वाले सभी तरह के फायदे सीधे उन तक पहुंचाती है। स्रोत - 30 अगस्त 2020 कृषि जागरण, प्रिय किसान भाइयों यदि आपको दी गयी जानकारी उपयोगी लगी तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ जरूर शेयर करें धन्यवाद।
20
0
संबंधित लेख