कृषि वार्ताआउटलुक एग्रीकल्चर
सरकार ने प्याज स्टॉक करने की सीमा और घटाई
नई दिल्ली। प्याज की कीमतों को काबू करने के लिए केंद्र सरकार ने खुदरा विक्रेताओं के लिए प्याज के स्टॉक की लिमिट को 5 टन से घटाकर 2 टन कर दिया है। केंद्र ने राज्यों को यह भी निर्देश दिए हैं कि प्याज की कीमतों को काबू में रखने के लिए जमाखोरी से निपटने के लिए जरूरी कदम उठाएं। केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मामले मंत्री रामविलास पासवान ने ट्वीट कर कहा कि खुले बाजार में प्याज की उपलब्धता बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार ने प्याज की भंडारण सीमा में और संशोधन किया है। साथ ही सभी राज्य सरकारों से जमाखोरों पर छापेमारी और अन्य कड़ी कार्रवाई करने को कहा गया है।
इसी माह के शुरुआत में केंद्र सरकार ने खुदरा प्याज विक्रेताओं के लिए स्टॉक लिमिट को 10 टन से घटाकर 5 टन किया था। इस दौरान होलसेल विक्रेताओं के लिए प्याज की स्टॉक करने की लिमिट को 50 टन से घटाकर 25 टन कर दिया था। प्याज की कीमतों में आई तेजी से निपटने के लिए सरकार ने 36,090 टन प्याज के आयात को मंजूरी दी है, इसमें से 21,090 टन प्याज आयात के सौदे हो भी चुके हैं, इसमें से 6,090 टन प्याज मिस्र से और 15 हजार टन प्याज तुर्की से आयात किया जाएगा। स्रोत – आउटलुक एग्रीकल्चर, 10 दिसंबर 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
102
0
संबंधित लेख