कृषि वार्ताकृषि जागरण
पीएम किसान संपदा योजना’ से होगा कृषि, किसान और ग्रामीण क्षेत्रों का विकास
नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने हाल ही में प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना (पीएमकेएसवाई) के तहत खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में करीब 32 परियोजनाओं को मंजूरी दी है। इन परियोजनाओं को करीब 17 राज्यों में लागू करने की तैयारी की जा रही है। इस योजना के तहत करीब 406 करोड़ रुपये के फंड को मंजूरी भी मिल गई है। क्या है परियोजना का उद्देश्य 1. इन परियोजनाओं के तहत करीब 15 हजार लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार दिया जाएगा। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अधिक से अधिक अवसर प्रदान किए जाएंगे। 2. आधुनिक प्रसंस्करण तकनीकों से कृषि उपज की बर्बादी को रोका जाएगा, ताकि किसानों की आय को दोगुना किया जा सके। 3. अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू बाजारों में भारतीय किसानों को उपभोक्ताओं से जोड़ा जाएगा। पीएम किसान संपदा योजना क्या है? इस योजना की शुरुआत अगस्‍त 2017 में हुई। इसका मुख्य उद्देश्‍य कृषि का आधुनिकीकरण करना तथा कृषि बर्बादी को कम करना साथ ही कृषि विकास को आधुनिक इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर की सहायता से आगे बढ़ाना है। कृषि विकास में सही मैनेजमेंट और बुनियादी ढाचे का निर्माण हो। किसानों को उनकी उपज का सही और बेहतर मूल्य मिल पाए. इसके अलावा भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर दिए जा सकें। स्रोत – कृषि जागरण, 3 मार्च 2020 यह उपयोगी जानकारी लाइक करें और अपने सभी किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
572
12
संबंधित लेख