Looking for our company website?  
मिर्च फसल में थ्रिप्स कीट का नियंत्रण
थ्रिप्स कीट का प्रकोप आमतौर पर नर्सरी के साथ-साथ मुख्य स्थान पर फिर से उगाई जाने वाली फसलों में होता है। निम्फस और पौढ़ दोनों ही अवस्था पत्तियों से रस चूसते हैं। नतीजा...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
94
2
शिकारी पक्षियों की देखभाल
पक्षी विभिन्न फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं लेकिन कीट प्रबंधन में उनका बहुत बड़ा योगदान है। कुछ कार्यों को अपनाने से इस क्षति से बचा जा सकता है। भारत में पक्षियों की...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
466
9
चने में फली छेदक इल्ली का प्रबंधन (आईपीएम)
सर्दियों के मौसम में चने की खेती पूरे भारत में सिंचित एवं असिंचित दोनों ही प्रकार से की जाती है। बुवाई से लेकर कटाई तक "फली छेदक" इस फसल को हानि पहुँचाता है। इल्ली...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
370
5
पत्तागोभी और फूलगोभी में माहू का नियंत्रण
आमतौर पर, किसान पूरे साल पत्तागोभी एवं फूलगोभी की फसलें उगा रहे हैं। माहू और हीरक पृष्ठ फुदका इन फसलों के लिए हानिकारक कीट हैं। रोपाई अवधि को बनाए रखने और उचित नियंत्रण...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
98
6
फलों का रस चूसने वाले कीटों का प्रबंधन
वर्तमान समय में, टमाटर और अनार जैसी फसलों में फलों को चूसने वाले कीटों का प्रकोप शुरू हो गया है। यह नुकसान अमरूद, नींबू, तरबूज और खरबूज की फसलों में होता है। इन कीटों...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
99
0
बागानों में फल मक्खी के लिए जाल तैयार करें
फल मक्खी का संक्रमण अमरूद, चीकू, आम आदि जैसी फसलों में देखा जाता है। फलों के मक्खी द्वारा रखे गए अंडों से सूंडी निकल कर फल में प्रवेश करती है और आंतरिक भाग को खाती...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
154
4
आलू की फसल में कुतरा (कट वार्म) कीट का नियंत्रण
आलू को सब्जियों का राजा माना जाता है। अधिकांश किसानों ने आलू लगाए होंगे। मुख्य रूप से कटे हुए कीड़े और पत्ती खाने वाले सुंडी से फसल खराब हो गई। फसल की परिपक्वता के...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
64
1
कपास के पत्तों का लाल होना और इसका उपचार
कपास की पत्तियां आमतौर पर दो कारणों से लाल होती हैं। यदि हरा तेला का पूर्ण रूप से नियंत्रण नहीं होता है, तो पत्ती लाल और भंगुर हो जाती है। दूसरा कारण पौधों के गुणधर्म...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
323
56
पत्ती खाने वाली इल्ली के लिए ज़हरीला चारा
पत्ती खाने वाले इल्ली और सैनिक कीट अरंडी, कपास, धान, घाँस, तंबाकू, सब्जियों की पौध, गोभी, विभिन्न फूलगोभी, आलू, केला, गेहूं, मक्का, बाजरा, ज्वार, मूंगफली, सोयाबीन जैसी...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
163
0
फेरोमोन जाल: उपयोग करते समय बरतें सावधानियां
किसान अक्सर अपने फसल पौधों को नुकसान पहुंचाने वाले कीटों के नियंत्रण के लिए कीटनाशकों पर भरोसा करते हैं। कभी-कभी, अनावश्यक और अंधाधुंध कीटनाशकों के प्रयोग से पर्यावरण...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
120
3
अरहर की फसल में फली छेदक का एकीकृत कीट प्रबंधन (आईपीएम)
अरहर दलहनी फसल के लिए सबसे महत्वपूर्ण है जो भारत के सभी राज्यों में उगाई जाती है। कुछ स्थानों पर इस फसल की खेती मक्का या कपास के साथ भी की जाती है। यदि फल एवं फूल...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
81
0
दीमक का पूर्व नियंत्रण के लिए गेहूं का बीजोपचार
गेहूं के फसल की खेती शीतकालीन अनाज फसल के रूप में की जाती है। गेहूं की खेती सिंचित या असिंचित दोनों तरह से की जा सकती है। इस वर्ष, मानसून अच्छा रहा और पर्याप्त से अधिक...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
611
90
बैंगन को मुख्य क्षेत्र में प्रत्यारोपण करने से पहले एहतियाती उपाय
आमतौर पर किसान सालभर बैंगन की फसल लगाते हैं। कुछ रस चूसने वाले कीट जैसे माहु, हरा तेला, सफेद मक्खी, मकड़ी और साथ ही शीर्ष बेधक एंव फल छेदक इस फसल को प्रभावित कर रहे...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
223
25
अनार में फल छेदक (ड्यूडोरिक्स इसोक्रेट्स)
अनार की खेती भारत में औसतन 109.2 हजार हेक्टेयर में की जाती है। फलों की फसल में, अधिकांश कीट अनार को नुकसान पहुंचा रहे हैं, इसमें सबसे ज्यादा फल छेदक नुकसान पंहुचा रहा...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
188
17
गोभी में हीरक पृष्ठ कीट का एकीकृत कीट प्रबंधन
किसान आम तौर पर साल भर गोभी की फसल उगाते हैं। भारत में, 6.87 मिलियन टन के उत्पादन के साथ 0.31 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्र में गोभी के फसलों की खेती की जा रही है। पश्चिम...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
113
6
कपास की फसल में गुलाबी इल्ली का नियंत्रण
पिछले कुछ वर्षों से, गुलाबी इल्ली का संक्रमण कपास को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा रहा है। कलियों, फूलों और विकासशील डोडों पर इस इल्ली द्वारा दिए गए अंडे आमतौर पर आगे...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
522
81
सेमीलूपर और पत्ती खाने वाली इल्ली से अपनी अरंडी फसल को बचाएं
अरंडी की फसल देश के अधिकांश भागों में उगाई जाती है। इस फसल की खेती कुछ राज्यों में मूंगफली और कपास में अंतर - फसल के रूप में भी की जाती है। कुछ चूसने वाले कीटों के...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
180
6
धान की फसल में बाली आने की अवस्था में आने वाले प्रमुख कीट
देश के अधिकांश हिस्सों में धान की रोपाई समाप्त हो गई है और कुछ क्षेत्रों में फल एवं फूल अवस्था शुरू होने वाली है। इस अवस्था में अपर्याप्त देखभाल की स्थिति में, किसानों...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
351
46
कपास की फसल में मिलीबग कीट का एकीकृत प्रबंधन
मिलीबग भारतीय मूल का कीट नहीं है और यह किसी और देश से आया हुआ है। इसका प्रकोप पहली बार 2006 में गुजरात में देखा गया था, जिसके बाद में अन्य राज्यों में भी देखा गया।...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
519
73
लोबिया, मूंग और उड़द में चित्तीदार फली छेदक इल्ली का प्रबंधन
लोबिया, मूंग और उड़द के खेतों में प्रजनन अवस्था में (फूल आने की अवस्था एवं फल बनने की अवस्था) इसका प्रभाव होता है। आम तौर पर, इन फसलों में चित्तीदार फली छेदक इल्ली का...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
164
5
और देखिएं