सलाहकार लेखकृषक जगत
ट्रैक्टर का समय-समय पर रख-रखाव
ट्रैक्टर कई प्रकार के छोटे-छोटे उपकरणों से मिलकर बना है जिनका समय रहते रखरखाव नहीं करने पर कार्य में काफी प्रभाव पड़ता है, जैसे ट्रैक्टर की दक्षता में कमी आना,ज्यादा ईंधन की जरुरत पडऩा, तेल का लिकेज होना। अत: समय-समय पर ट्रैक्टर का रख-रखाव एवं देख-रेख अति आवश्यक होता है, उनमें से कुछ टिप्स इस प्रकार हैं । हर दिन (8-10 घंटे के काम के बाद) • इंजन में तेल के स्तर की जांच करें। इंजन के ठंडा होने के 15 मिनट बाद तेल के स्तर की जांच करें। यदि कमी पाई जाती है, तो स्तर को सही ग्रेड के इंजन तेल के साथ फिर से भरना चाहिए।
• रेडिएटर के पानी की जांच करें और इसे फिर से भरें। • एयर क्लीनर को साफ करें और तेल के स्तर की जांच करें। यदि यह कम है, तो इसे आवश्यक स्तर पर भरें। यदि मौजूदा तेल गंदा हो गया है तो साफ तेल भरें। साप्ताहिक (काम के 50-60 घंटे बाद) • दैनिक रखरखाव उपाय दोहराएं। • टायरों में हवा के दबाव की जांच करें। यदि दबाव कम है, तो आवश्यक हवा भरे। • तेल फिल्टर में संग्रहीत पानी को नली प्लग द्वारा बाहर निकालें। • बैटरी के जल-स्तर की जांच करें। • गियर बॉक्स में तेल के स्तर की जांच करें। • क्लच शॉफ्ट और बेयरिंग, ब्रेक कंट्रोल, पंखे का वासर, सामने के पहिये का हब, टाई रॉड और रेडियस क्रॉस, आदि पर ग्रीस लगाएं। दो महीने के बाद (500 घंटे का काम) • डीजल फिल्टर के अन्य तत्व को बदलें। • एक अधिकृत डीलर या एक अनुभवी मैकेनिक द्वारा इंजेक्टर और डीजल पंप की जांच करें। • वाल्व के निरीक्षण के लिए अपने अधिकृत डीलर या एक अनुभवी मैकेनिक से संपर्क करें। • डायनेमो और सेल्फ स्टार्टर का निरीक्षण करें। • तेल टैंक खोलें और इसे साफ करें। स्रोत :कृषि जगत यह जानकारी उपयोगी लगे, तो इसे लाईक करे और अपने सभी किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
331
14
संबंधित लेख