गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
बागवानी फसलों में दीमक
• दीमक को मिट्टी में गहरी रहनेवाली रानी कहां जाता है। • दीमक मिट्टी में प्रकाश से दूर रहते है और पौधों की जड़ों की प्रणाली को नुकसान पहुंचाते है और मिट्टी में कार्बनिक पदार्थों को खाते है। • दीमक पेड़ के तने पर मिट्टी दीर्घाएं बनाते हैं, उसमें रहते हैं और छाल /तना की सतह पर अंडे देते हैं। • यह तना पर मौजूद घावों या टूटी टहनियों / शाखाओं से पेड़ के तने के मध्य भाग में भी प्रवेश करते है और आंतरिक मामलों को खाते है। • संक्रमित पेड़ / पौधे समय-समय पर सूख जाते हैं। • दीमक बागों की नर्सरी को बहुत नुकसान पहुँचाते है। • बागों की सीमाओं से दीमक द्वारा बनाए गए टरमटेरा को नष्ट करें। • गर्मियों में मिट्टी में दीमक को नष्ट करने के लिए बागों की गहरी जुताई करें।
• यदि बगीचा में अंतरफसल की जा रही है, तो कटाई के बाद फसल के अवशेषों को नष्ट कर दें। • एफवाईएम का अच्छी सड़ी खाद का उपयोग करें। केंचुओं से बने जैविक उर्वरक का उपयोग करना बेहतर है। • पौधों के चारों ओर मिट्टी में नीम या अरंडी की खल डालिए, जो फसल को दीमक से रक्षा करेगा। • दीमक द्वारा बनाये गए छेद में क्लोरपायरीफॉस 20 ईसी @ 250 मिलीलीटर प्रति 10 लीटर पानी में डालें जो दीमक के सभी चरणों को मार दें। • नए बागवानी फसलों पर क्लोरपायरीफॉस 20 ईसी @ 50 मिली प्रति 10 लीटर पानी में मिलाकर दीजिए । मिट्टी में पौधे के चारों ओर ड्रेंचिंग करे। 6 महीने बाद भी दोबारा दोहराएं। • पेड़ के चारों ओर मिट्टी की अच्छी जुताई करें और बगीचा में दो सिंचाई के बीच के अंतराल को कम करें। स्रोत : एगोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस खेती संबंधित जानकारी आपको उपयोगी लगी तो लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
238
1
संबंधित लेख