कृषि वार्ताकृषि जागरण
सोलर पम्प योजना का नया अपडेट: जानें क्या है खास!
पिछले कुछ वर्षों से, भारत में सौर पैनलों की मांग तेजी से बढ़ी है। इसके अलावा, बैंक सौर पैनलों के लिए आसान किस्तों में ऋण भी प्रदान कर रहे हैं। छोटे व्यवसायी सहित हर किसान अब इस योजना से जुड़ सकता है और बिजली पैदा करके अच्छी आय कर सकता है। राज्यों में बिजली कनेक्शन के लंबे इंतजार के कारण किसानों का रुझान अब सोलर पंप की ओर बढ़ रहा है। खेतों में सिंचाई के लिए बने नलकूपों और कुओं पर आठ साल में बिजली का कनेक्शन नहीं था। 3 लाख से अधिक किसान कनेक्शन के लिए इंतजार कर रहे हैं। कृषि विद्युत कनेक्शन:- सरकार ने उन किसानों को सब्सिडी पर सोलर पंप लगाने का विकल्प भी दिया है, जिन्हें कुसुम योजना के तहत बिजली कनेक्शन की प्रतीक्षा में वापस ले लिया गया है। इस साल, 50 हजार से अधिक किसानों ने अपने खेतों में सौर पंप स्थापित करके फसल की बुवाई शुरू कर दी है। सोलर और बिजली का कनेक्शन ज्यादा पसंद करते हैं किसान:- ऊर्जा मंत्री ने कहा कि पहले ट्यूबवेल और कुएं केवल बिजली के माध्यम से चलते थे, लेकिन अब सौर पंप भी खेतों की सिंचाई कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने कुसुम योजना के तहत किसानों को नाबार्ड से ऋण प्राप्त करने के बारे में केंद्र सरकार को लिखा है। अब बिजली कनेक्शन के साथ-साथ भी लगाया जा सकता है सोलर पंप:- कुसुम योजना के तहत, बिजली कनेक्शन वाले किसानों को सोलर पंप भी दिए जाएंगे। जहां 10 एचपी की मोटर लगाई जाती है, वहीं 5 लाख की लागत से सोलर पंप लगाया जाएगा। इसमें किसान 10% नकद देगा। वहीं, 30% का भुगतान बैंक ऋण द्वारा किया जाएगा। शेष 60% केंद्र और राज्य सरकार से सब्सिडी के माध्यम से प्रदान किया जाएगा। इसमें, किसान ग्रिड को DISCOM से जोड़कर सौर पंप में बनाई गई अधिशेष बिजली को 3.44 रुपये प्रति यूनिट में भी बेच सकेगा। ताकि बैंक की किश्त दी जा सके। अब किसान दिन में भी सिंचाई कर सकेंगे:- वर्तमान में, किसानों को तीन ब्लॉकों में बिजली की आपूर्ति की जाती है। रात के ब्लॉक में बिजली की आपूर्ति के कारण, रात में सिंचाई करनी पड़ती है। कई बार सांप और कीड़े के काटने से किसानों की मौत हो जाती है। इसी वजह से किसान पिछले कई सालों से बिजली की मांग कर रहे हैं। ग्रिड सब-स्टेशन के पास सोलर प्लांट और कुएं पर सोलर पंप लगाने से दिन में ज्यादातर किसानों को बिजली मिलेगी। स्रोत-कृषि जागरण, प्रिय किसान भाइयों यदि आपको दी गयी जानकारी उपयोगी लगी तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ जरूर शेयर करें धन्यवाद।
127
14
संबंधित लेख