कृषि वार्तादैनिक भास्कर
छोटे किसानों को अधिक कर्ज के लिए प्रस्ताव लाने की तैयारी
सरकार ने कहा, हर साल 10 फीसदी ज्यादा कर्ज कृषि ऋण सालाना 10 फीसदी की दर से बढ़ रहे हैं और यह पिछले वित्त वर्ष की समाप्ति तक 10 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच चुके हैं। सरकार ने मंगलवार को छाटे किसानों का अधिक कर्ज देने पर जोर देते हुए यह बात कही। फिक्की के एक कार्यक्रम के समापन समारोह में कृषि मंत्रालय संयुक्त सचिव आशीष कुमार भुटानी ने कहा कि कृषि मंत्रालय जल्द ही सीमांत और छोटे किसानों को अधिक कर्ज से संबंधित प्रस्ताव केंद्रीय मंत्रिमंडल के समक्ष रखेगा। यह प्रस्ताव सारंगी कमेटी की सिफारिशों पर आधारित होगा। उन्होंने बताया कि कृषि ऋण लगातार बढ़ रहे हैं।
उन्होंने बताया कि पिछले वित्त वर्ष में बांटेे गए 10 लाख करोड़ रुपए के कृषि ऋण में से 6.8 लाख करोड़ रुपए के लोन अल्पावधि के लिए हैं। अल्पावधि लोन में से 50 फीसदी छोटे व सीमांत किसानों को दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने बैंकों से कृषि ऋण के लक्ष्य को बेहतर तरीके से तय करने के लिए बैंकों से डेटा मांगा है। लीज पर खेती के लिए कृषि को लेकर नीति आयोग बेहतर प्रणाली बनाने पर काम कर रहा है। वर्तमान में लीज पर खेती करने वालों को कृषि ऋण नहीं मिलता। इसके मद्देनजर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट भाषण में कहा था कि लीज पर खेती करने वालों को लोन के लिए बेहतर प्रणाली बनाने के लिए नीति आयोग सरकार से सलाह-मशविरा कर रहा है। सन्दर्भ – दैनिक भास्कर २५ अप्रैल १८
14
0
संबंधित लेख