कृषि वार्ताआउटलुक एग्रीकल्चर
कीटनाशक, बीज विधेयकों को संसद के अगले सत्र में मंजूरी की उम्मीद!
नई दिल्ली। सरकार को कीटनाशक प्रबंधन और बीज से जुड़े दो विधेयकों के संसद के आगामी सत्र में पारित होने की उम्मीद है। कृषि राज्य मंत्री परषोत्तम रुपाला ने कहा कि कीटनाशक प्रबंधन विधेयक में कीमत निर्धारित और नियामकीय प्राधिकरण गठित करके कीटनाशक क्षेत्र के नियमन पर जोर दिया गया है। यह विधेयक कीटनाशक कानून 1968 का स्थान लेगा। वहीं बीज विधेयक बीजों के उत्पादन, वितरण और बिक्री को नियमित करने पर जोर देता है। यह बीज कानून 1966 का स्थान लेगा। विधेयक में जीन संवर्द्धित फसलों के प्रावधान होने के कारण विभिन्न तबकों की आलोचना के कारण 2015 में इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया गया।
रूपाला ने उद्योग मंडल एसोचैम के कार्यक्रम में कहा कि हम दो महत्वपूर्ण विधेयकों कीटनाशक प्रबंधन विधेयक और बीज विधेयक पर काम कर रहे हैं। उम्मीद है कि ये संसद के अगले सत्र में पारित हो जाएंगे। सरकार मिलावटी कीटनाशकों और बीजों की बिक्री को लेकर चिंतित हैं। इन विधेयकों का मकसद इस मसले का समाधान करना भी है। विधेयक पर संसद की स्थायी समिति विचार कर रिपोर्ट पेश कर चुकी है। विधेयक में कीटनाशक को नये सिरे से परिभाषित किया गया है। इसमें खराब गुणवत्ता, मिलावटी या हानिकारक कीटनाशकों के नियमन एवं अन्य मानदंड निर्धारित किये गए हैं। स्रोत – आउटलुक एग्रीकल्चर, 19 सितंबर 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
92
0
संबंधित लेख