कृषि वार्ताकृषि जागरण
तीन महीने पहले ही पता लग जाएगा, मंडी का दाम
किसानों के लए सरकार ने एक ऐसे पोर्टल की शुरुआत की है, जो संभावित कीमतों को लेकर पहले ही अलर्ट जारी करता है। इस पोर्टल की शुरुआत खुद खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने की है। वर्तमान में इस पोर्टल के सहारे अगले तीन महीनों के संभावित थोक दाम का अंदाजा लगाया जा सकता है। पोर्टल फिलहाल आलू, प्याज और टमाटर की संभावित कीमतों की जानकारी देता है। लेकिन आने वाले समय में इसमें अन्य सब्जियों की जानकारी भी डाली जा सकती है। यही नहीं, दाम गिरने की स्थिति में यह पोर्टल किसानों को सतर्क भी करेगा। नाफेड ने इस पोर्टल को तैयार किया है, जिसका नाम ‘बाजार बुद्धिमत्ता एवं अग्रिम चेतावनी प्रणाली’ रखा गया है। इसका नाम एमआईईडब्ल्यूएस (miews) है। यह
पोर्टल निजी कंपनी ऐग्रिवॉच की निगरानी वाली 1,200 मंडियों के आंकड़े बताने में सक्षम है। सब्जी मंडियों के भाव कई बार अचानक ही गिर जाते हैं। इसके कई कारण हैं, जैसे आर्थिक रूप से मार्केट का कमजोर पड़ना या अचानक ही मौसम का खराब होना आदि। मंडियों में भाव गिरने से किसानों को ही हर बार नुकसान होता है। ऐसे में इस पोर्टल के सहारे किसान पहले से ही भावों का अनुमान लगा सकते हैं। स्रोत – कृषि जागरण, 18 मार्च 2020 इस उपयोगी जानकारी को लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
1114
0
संबंधित लेख