कीट जीवन चक्रएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
मक्का की फसल में तना छेदक कीट का जीवन चक्र
मक्का का तना छेदक कीट मक्का की फसल में सबसे अधिक हानि पहुंचने वाला कीट है। आइए इस कीट के बारे में गहराई से जानें। अंडा:- अंडे सपाट अंडाकार और मलाईदार सफेद रंग के होते हैं। प्रारंभिक अवस्था में अंडे मोती के रंग में सफेद दिखाई देते हैं और फिर अंत में गहरे रंग में बदल जाते हैं। अण्डों का जीवन काल 4-7 दिनों का होता हैं। सुंडी:- सुंडी भूरे रंग के सिर के साथ इसका शरीर पीले भूरे रंग का पाया गया। सुंडी अवस्था लगभग 29-36 दिनों तक रहती है। कृमिकोष:- कृमिकोष बेलनाकार आकृति के साथ हल्के भूरे रंग के होते हैं। कृमिकोष की अवधि 11-12 दिनों तक रहती है। प्रौढ़:- नर पतंग गहरे भूरे रंग होते हैं। इनके पंखो का पीले रंग के साथ गहरे भूरे रंग के होते हैं जबकि मादा कीट के पखों का रंग हल्का पीला होता है। प्रौढ़ कीट का जीवन 7-9 दिनों का होता है। क्षति के लक्षण:- 1. सुंडी के द्वारा पौधों में डेड हार्ट की समस्या होती है। 2. सुंडी की पौधों के आंतरिक भाग को खाकर नुकसान पहुँचती है। 3. शुरूआती अवस्था में सुंडी नै पत्तियों खाकर नुकसान पहुँचती है। 4. जिसके कारण विशिष्ट "शॉट होल" लक्षण दिखाई देते हैं। प्रबंधन:- 1. संक्रमित पौधों के डंठलों को नष्ट करना चाहिए। 2. ग्रीष्म क़ालीन गहरी जुताई करनी चाहिए। 3. संक्रमित पौधे के हिस्सों या संक्रमित पौधों को खेत से हटा देना चाहिए। 4. मक्के की फसल में सोयाबीन की मिश्रित फसल लगाए ताकि संक्रमण कम हो सके। 5. डाइमेथोएट 30.00% ईसी @ 264 मिली या थायमेथोक्साम 12.60% + लैंबडा-सायलोथ्रिन 09.50% जेडसी@ 50 मिली को 200 लीटर पानी के साथ प्रति एकड़ छिड़काव करें। स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सिलेंस यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो लाइक करें और अपने सभी किसान भाइयों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
88
20
संबंधित लेख