कृषि वार्ताकृषि जागरण
जानें! किसान ऊर्जा सुरक्षा और उत्थान महाभियान के बारे में
नई दिल्ली। आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने किसानों को वित्तीय और जल सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से 'किसान ऊर्जा सुरक्षा और उत्थान महाभियान' शुरू करने की मंजूरी दे दी है।
प्रस्तावित योजना के तीन प्रस्ताव: • गैर-नवीकरणीय बिजली संयंत्र जो 10,000 मेगावाट के विकेन्द्रीकृत ग्रिड को जोड़ेगा। • सौर ऊर्जा पर चलने वाले 17.50 लाख कृषि पंप लगाएंगे। • 2022 तक 25,750 मेगावाट वाले ग्रिड से जुड़े हुए 10 लाख कृषि पंपों का सौरकरण करना। केंद्र सरकार इस योजना के लिए 34,422 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। इस योजना से कार्बन उत्सर्जन कम होगा और पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। इस योजना से प्रत्यक्ष रोजगार भी पैदा होंगे। स्वरोजगार बढ़ने के अलावा, कुशल और अकुशल श्रमिकों के लिए 6.31 लाख नए रोजगार सृजित होने की उम्मीद है। संदर्भ - कृषि जागरण, 26 फरवरी 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
314
0
संबंधित लेख