AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
01 Apr 19, 01:00 PM
कृषि वार्ताकृषि जागरण
कॉफी की इन पांच किस्मों को जीआई टैग मिला
भारतीय कॉफी की कुल पांच किस्मों को भौगौलिक प्रमाणन (जीआई) से सम्मानित किया गया है। इससे देश को अपनी प्रमीयिम कॉफी की अधिकतम कीमत को प्राप्त करने में भी काफी मदद मिलेगी।
कूर्ग अराबिका कॉफी - इस कॉफी की बात करें तो यह कर्नाटक राज्य के कोडागू जिले में भारी मात्रा में उगाई जाती है। वायनाड रोबस्टा कॉफी - इस प्रकार की कॉफी मुख्य रूप से केरल राज्य के वायनाड जिले में पाई जाती हैं। चिंकमंगलूर अराबिका कॉफी - यह कॉफी मुख्य रूप से चिकमंगलूर जिले में उगाई जाती है जो कर्नाटक के मालनाड से संबंधित है। अराकू बैली अराबिका कॉफी - इस कॉफी को आंध्र प्रदेश, विशाखापट्टनम और ओडिशा क्षेत्र की पहाड़ियों से प्राप्त किया जाता है। बाबाबुदन गिरीज अराबिका कॉफी - इस कॉफी को चिंकमंगलूर जिले के मध्य क्षेत्र में उगाया जाता है। इसको मुख्य रूप से हाथ से ही चुना जाता है। कॉफी की यह किस्म सुहावने मौसम में तैयार होती है। स्रोत – कृषि जागरण, 30 मार्च 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
20
0