पशुपालनपशु चिकित्सक
पशुओं में संक्रामक रोग: होमोरोइड
पशुओं को भी मनुष्यों की तरह विभिन्न प्रकार के त्वचा रोग होते हैं। उनमे से होमोरोइड एक प्रमुख रोग है। यह रोग "पैपिलोमा" वायरस के कारन होता है। इस तरह के वायरस जानवरों और आसपास के वातावरण में संक्रमित कोशिकाओं में महीनों तक जीवित रहते हैं।_x000D_ _x000D_ • वायरस त्वचा पर घाव, निशान या किसी संक्रमित जानवर के शरीर के संपर्क में आने से फैलता है। _x000D_ • इसके अलावा पशु को बाँधने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले रस्सियों द्वारा भी फैलता है।_x000D_ • यह बीमारी मुख्य रूप से गायों और कभी-कभी भेड़ और बकरियों में भी देखी जाती है।_x000D_ • यह रोग अक्सर दुधारू पशुओं के अयन पर पाया जाता है, यदि रोग अधिक होता है, तो सिर, गर्दन, पूंछ और कभी-कभी पशु के पूरे शरीर पर भी देखा जाता हैं।_x000D_ • होमोरोइड का आकार छोटे फोड़े से लेकर बड़े फूलगोभी के बराबर तक हो सकता है।_x000D_ • अयन पर होमोरोइड होने की वजह से दूध दोहने में परेशानी होती है, कभी-कभी पशु के योनि के आसपास होमोरोइड होने की वजह से पशु को कृत्रिम गर्भाधान करने में समस्या उत्पन्न होती हैं।_x000D_ • इस बीमारी के कारण, पशु की सुंदरता और पशु का मूल्य भी कम हो जाता है। यह एक संक्रामण है, _x000D_ • यह मनुष्यों में भी फैल सकता है, इसलिए सावधान रहना जरूरी है।_x000D_
स्रोत: एग्रोस्टार - पशु विशेषज्ञ_x000D_ अगर आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ शेयर करें।_x000D_
273
0
संबंधित लेख