कृषि वार्ताआउटलुक एग्रीकल्चर
जून में खाद्य एवं अखाद्य तेलों का आयात 6 फीसदी बढ़ा
खाद्य एवं अखाद्य तेलों का आयात जून में 6 फीसदी बढ़ा है, जबकि चालू तेल वर्ष 2018-19 (नवंबर से अक्टूबर) के पहले आठ महीनों नवंबर-18 से जून-19 के दौरान इनके आयात में दो फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। आयात ज्यादा होने से उत्पादक मंडियों में सरसों 3,800 रुपये प्रति क्विंटल बिक रही है जबकि सरकार ने समर्थन मूल्य 4,200 रुपये प्रति क्विंटल तय किया हुआ है। सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन आफ इंडिया (एसईए) के कार्यकारी निदेशक डॉ. बी . वी मेहता ने बताया कि विश्व बाजार में पिछले सालभर में पॉम तेल में 14 से 21 फीसदी की जबकि साफ्ट तेलों की कीमतों में 3 से 5 फीसदी की गिरावट आई है। इसीलिए पॉम तेल का आयात ज्यादा मात्रा में हुआ है। जून में खाद्य एवं अखाद्य तेलों का आयात बढ़कर 11,05,293 लाख टन का हुआ है जबकि पिछले साल जून में इनका आयात 10,42,003 टन का ही हुआ था। इस दौरान खाद्य तेलों का आयात बढ़कर 10,71,279 टन का हुआ है जबकि पिछले साल जून में खाद्य तेलों का आयात 10,07,563 टन का हुआ था। स्त्रोत – आउटलुक अॅग्रीकल्चर, १५ जुलाई २०१९
यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
13
0
संबंधित लेख