कृषि वार्ताद इकोनॉमिक टाइम्स
हनी मिशन' से 10 हजार लोगों को रोजगार मिला
नई दिल्ली। खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने 'हनी मिशन' के तहत पिछले दो साल से कम समय में किसानों एवं बेरोजगार युवकों को मधुमक्खी पालने के एक लाख से अधिक बक्से दिए हैं। केवीआईसी के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना ने कहा कि देश में पहली बार मधुमक्खी पालन के लिये 1,01,000 बक्से वितरित किए गए हैं। रोजगार के 10 हजार से अधिक अवसर सृजित किए गए हैं। मिशन के तहत अब तक करीब 4 करोड़ रुपये मूल्य का 246 टन शहद निकाला गया है।
केवीआईसी ने मधुमक्खी पालकों को मधुमक्खी कॉलोनी की जांच करने, मधुमक्खी की बीमारियों की पहचान एवं प्रबंधन, शहद निकालने और मोम शोधन करने तथा हर मौसम में मधुमक्खी कालोनियों के प्रबंधन के बारे में प्रशिक्षण प्रदान किया है। केवीआईसी प्रसंस्करण, पैकेजिंग और शहद के लिए लेबलिंग इकाइयों की स्थापना के लिए ऋण प्रदान करेगा। खादी ग्रामोद्योग विभाग ने हनी मिशन योजना शुरू की है। इसके तहत मधुमक्खी पालन उद्योग लगाने के लिए सब्सिडी दी जाती है। 10 बक्सों की इकाई शुरू करने पर 80 फीसदी सब्सिडी और शेष 20 प्रतिशत किसान को लगाना होगा। स्रोत – द इकोनॉमिक टाइम्स, 07 मई 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
35
0
संबंधित लेख