गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
फेरोमोन जाल: उपयोग करते समय बरतें सावधानियां
किसान अक्सर अपने फसल पौधों को नुकसान पहुंचाने वाले कीटों के नियंत्रण के लिए कीटनाशकों पर भरोसा करते हैं। कभी-कभी, अनावश्यक और अंधाधुंध कीटनाशकों के प्रयोग से पर्यावरण में विपरीत प्रभाव होता है और इससे स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इसलिए कुछ किसानों ने जैविक खेती की ओर रुख किया है। ऐसे किसानों के पास अपनी वस्तु निर्यात करने का उत्कृष्ट अवसर है। न केवल जैविक खेती बल्कि फसलों की नियमित खेती में फेरोमोन जाल का उपयोग बहुत महत्वपूर्ण है। इंटीग्रेटेड पेस्ट मैनेजमेंट (IPM) में फेरोमोन जाल रीढ़ की हड्डी है। ये आम तौर पर कीटों के सर्वेक्षण, निगरानी और प्रबंधन में उपयोग किए जाते हैं।
आइए इसके बारे में और जानें: • जाल में व्यवस्थित ल्यूरा से कुछ विशेष प्रकार की गंध जारी की जाती है। फेरोमोन जाल के प्रकार से संबंधित विशिष्ट नर कीट जाल की ओर आकर्षित होते हैं और शीघ्र ही मर जाते हैं। इस प्रकार, समय-समय पर नर पतंगों की आबादी में कमी आती है और मादा जो अंडे देती हैं वो निष्क्रिय होते हैं। उन अंडों से सुंडी का कोई उभार नहीं होता है और इस तरह हम अपनी फसलों को कीट से बचा सकते हैं। • इस तरह के फेरोमोन जाल कई कीटों के लिए उपलब्ध हैं, जैसे कि फल मक्खी, अमेरिकन सुंडी, धब्बे दार सुंडी , गुलाबी सुंडी, हीरक पृष्ठ फुदका, तना छेदक, अरंडी सुंडी, लीफ माइनर्स, बैगन शीर्ष एवं फल छेदक, कोकोनट रेड पाम वीविल, सफेद लट आदि। • फेरोमोन ट्रैप बहुत विशिष्ट होते हैं और फेरोटोन ट्रैप के प्रकार और ल्यूर के अंदर रखे केमिकल के संबंध में केवल नर कीटों को आकर्षित करते हैं। • फसल से आधा से एक फीट ऊपर जाल स्थापित करें। जैसे-जैसे फसल की ऊंचाई बढ़ती है, तब जाल की ऊंचाई को भी समय-समय पर समायोजित करें। • खेत में दो जालों के बीच लगभग 10 मीटर की दूरी रखें। • अंकुरण के ठीक बाद जाल स्थापित करें और फसल की परिपक्वता तक बनाए रखें। • बार-बार उनकी स्थिति न बदलें। • किसी भी परिस्थिति में जाल पर किसी भी कीटनाशक का छिड़काव न करें। • महीने में कम से कम एक बार ल्यूर बदलें। हालांकि, कुछ कीटों के लिए लंबी अवधि के ल्यूर भी उपलब्ध हैं। • खरीदे हुए ल्यूर को ठंडे स्थान पर संग्रहित किया जाना चाहिए। जैसे ही पैकेट टूट जाए इसका इस्तेमाल करें। • आम तौर पर, सर्वेक्षण और निगरानी के लिए पांच जाल की आवश्यकता होती है जबकि कीट के प्रबंधन के लिए 25 से 40 जाल प्रति हेक्टेयर की आवश्यकता होती है। • एक सप्ताह में दो बार फंसे हुए पतंगे को इकट्ठा करें और नष्ट करें। • सावधान रहें, कुत्ते या अन्य जानवर जाल को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। • जाल की गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए प्रतिष्ठित निर्माताओं से जाल खरीदें। यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
126
1
संबंधित लेख