कृषि वार्ताआउटलुक एग्रीकल्चर
सरकार ने किसान रेल की रूपरेखा को अंतिम रूप देने के लिये समिति गठित की
सरकार ने बताया कि कृषि मंत्रालय के तहत भारतीय रेलवे के प्रतिनिधियों सहित एक समिति का गठन किया गया है जो ‘किसान रेल’ की रूपरेखा तैयार करेगा।_x000D_ रेल मंत्रालय ने लोकसभा को बताया कि किसान रेल की रूपरेखा तैयार करने के लिये कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय की देखरेख में एक समिति का गठन किया गया है जिसमें रेल मंत्रालय के प्रतिनिधियों को भी शामिल किया गया है। जल्द खराब होने वाले उत्पादों के लिए भारतीय रेलवे पीपीपी के माध्यम से किसान रेल चलाएगी। एक्सप्रेस और ढुलाई ट्रेनों में भी रेफ्रिजेरेटेड डिब्बे होंगे।_x000D_ किसान रेल चलाने के लिए रेल मंत्रालय ने रेफ्रिजरेटर युक्त बोगियों की फ्लीट खरीदी है। पंजाब के कपूरथला स्थित रेल कोच फैक्ट्री से खरीदी गई इस फ्लीट में रेफ्रिजरेटर युक्त नौ बोगियां हैं। इनमें प्रत्येक बोगी में 17 टन की भार वहन करने की क्षमता है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण में सार्वजनिक निजी भागीदारी के तहत जल्द खराब होने वाले खाद्य उत्पादों के परिवहन के लिये ‘किसान रेल’ का प्रस्ताव किया था। _x000D_ स्रोत – आउटलुक एग्रीकल्चर, 4 मार्च 2020_x000D_ यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो लाइक करें और अपने सभी किसान मित्रों के साथ शेयर _x000D_ करें।_x000D_
403
0
संबंधित लेख