सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
निर्यात योग्य जरबेरा फूलों के खेती की तकनीक
ग्रीनहाउस में जरबेरा लगाने के लिए,उचित जल निकास वाली बलुई दोमट मिट्टी का चयन किया जाना चाहिए। गुणवत्ता युक्त फूलों के उत्पादन के लिए, ग्रीनहाउस में ऊतक संवर्धन से तैयार पौधों को खेती में लगाना चाहिए। उन्नत तकनीक को अपनाने से इस फसल का भरपूर उत्पादन होता है। किस्मों का चयन: बाजार या ग्राहक की मांग के आधार पर किस्मों का चयन किया जाना चाहिए। मिट्टी का चयन: जरबेरा की खेती के लिए उचित जल निकास वाली जीवाश्म युक्त मिट्टी का चयन करें। मिट्टी का पी एच मान 5.5 से 6 के बीच होना चाहिए। रोपाई : मिट्टी के उपचार के बाद, विशेषज्ञों के परामर्श के बाद फसलों को 30 सेमी x 30 सेमी के अंतर पर लगाया जाना चाहिए। ऊतक-संवर्धित तकनीक का उपयोग करके तैयार रोप का चयन करें। अधिक गहराई पर रोपाई न करें और ग्रीनहाउस में फसलों की उपयुक्त संख्या बनाए रखें। जल प्रबंधन: फसल की स्थिति या आवश्यकतानुसार पानी देना चाहिए। खाद एवं उर्वरक प्रबंधन: खेत कूड़ा कचरे का खाद @10 किलो प्रति वर्गमीटर। ट्राइकोडर्मा विरडी, बेसिलोमीसेस और नीम केक को खेत की खाद के साथ अच्छी तरह मिलाएं। मृदा परीक्षण के अनुसार, उर्वरक का भुरकाव किया जाना चाहिए। वृद्धि के प्रारंभिक चरणों में 19:19:19 @2 किलो 4 दिनों के अंतराल पर दिया जाना चाहिए। फूल आने के बाद, अधिक फूल आने के लिए 12:61:00 @3 किलो प्रति एकड़ 5 से 6 दिनों के अंतराल पर देना चाहिए। उर्वरकों के अलावा, सूक्ष्म पोषक तत्व भी देना चाहिये जैसे बोरॉन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, आदि। स्प्रे बोरॉन, कैल्शियम, और मैग्नीशियम @1.5 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी में एक महीने में एक बार। इसके अलावा, फूल आने के लिए, 13:00:45 @3 किलोग्राम प्रति एकड़ 5 से 6 दिनों के अंतराल पर प्रति एकड़ देना चाहिए। उच्च गुणवत्ता वाले फूलों के लिए ड्रिप सिंचाई द्वारा सूक्ष्म पोषक तत्व प्रदान किए जाने चाहिए। यह फूलों के उत्पादन को बढ़ाकर गुणवत्ता भी बढ़ाता है। कटाई : 1. जरबेरा के फूलों को आमतौर पर रोपाई के 8 से 10 सप्ताह तक तोड़े जाते हैं। 2. फूलों की पंखुड़ियों की दो परतों को फूलने के बाद, उस समय फूलों की तुड़ाई की जानी चाहिए। 3. फूलो को काटते समय 3-4 सेंटीमीटर नीचे से तोड़ना चाहिए। 4. आमतौर पर, फूलों को सुबह के समय तोड़ना चाहिए। 5. फूलों को तोड़ने के बाद उनके सिरों को पानी की बाल्टी में डुबोएं रखें। 6. फूलों को ताजा और स्वस्थ रखने के लिए, सोडियम हाइपोक्लोराइट 7 से 10 मिली प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर घोल में डुबोएं। 7. जरबेरा फूलो की तुड़ाई के बाद इस घोल को बदलते रहना चाहिए। स्रोत: एग्रोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस
यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
133
0
संबंधित लेख