कृषि वार्ताआउटलुक एग्रीकल्चर
अरंडी के तेल का निर्यात 8.75 फीसदी घटा
घरेलू बाजार में उंचे दाम के कारण अरंडी के तेल के निर्यात में कमी आई है। चालू वित्त वर्ष 2019-20 अप्रैल में अरंडी के तेल का निर्यात 8.75 फीसदी घटकर 45,897 टन ही हुआ है। अरंडी तेल की निर्यातक फर्म ओसवाल एग्री इम्पैक्स के प्रबंध निदेशक कुशल राज पारिख ने कहा कि घरेलू बाजार में अरंडी तेल के भाव काफी उंचे है,
जिसकी वजह से निर्यात में कमी आई है। उन्होंने बताया कि इस समय अरंडी तेल में चीन के निर्यात सौदे 1,720 से 1,730 डॉलर प्रति टन की दर से हो रहे हैं। महीनेभर में ही करीब 20 से 30 डॉलर प्रति टन तेजी आ चुकी है। उत्पादन कम होने से बाजार में अरंडी बीज की उपलब्धता पिछले साल की तुलना में कम होने के कारण कुल निर्यात पिछले साल की तुलना में कम होने का अनुमान है। साल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन आफ इंडिया के अनुसार वित्त वर्ष 2018-19 में अरंडी तेल का निर्यात 13.82 फीसदी घटकर 5.61 लाख टन ही हुआ है। उद्योग के अनुसार फसल सीजन 2018-19 में अरंडी बीज का उत्पादन घटकर 11.27 लाख टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल 14.33 लाख टन उत्पादन हुआ था। स्रोत – आउटलुक एग्रीकल्चर, 25 मई 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
30
0
संबंधित लेख